Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2023 · 1 min read

अगर मैं अपनी बात कहूँ

अगर मैं अपनी बात कहूँ
तो आज भी अकेले में मैं मुस्कुराती हूँ
कुछ बातों को याद करके कुछ को भूल जाती हूँ
आज भी मुझे खुशियां मनाने के लिए
किसी उत्सव का इंतिजार नही करना पड़ता है
मेरा उत्साह ही किसी भी पल को उत्सव बना देता है
Ruby kumari

1 Like · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
२०२३ में विपक्षी दल, मोदी से घवराए
२०२३ में विपक्षी दल, मोदी से घवराए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
घूंटती नारी काल पर भारी ?
घूंटती नारी काल पर भारी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
*अभिनंदनों के गीत जिनके, मंच पर सब गा रहे (हिंदी गजल/गीतिका)
*अभिनंदनों के गीत जिनके, मंच पर सब गा रहे (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
"गिल्ली-डण्डा"
Dr. Kishan tandon kranti
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
Arvind trivedi
वाह रे मेरे समाज
वाह रे मेरे समाज
Dr Manju Saini
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
दोहा निवेदन
दोहा निवेदन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ये नयी सभ्यता हमारी है
ये नयी सभ्यता हमारी है
Shweta Soni
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हसीन तेरी सूरत से मुझको मतलब क्या है
हसीन तेरी सूरत से मुझको मतलब क्या है
gurudeenverma198
हकीकत
हकीकत
अखिलेश 'अखिल'
मां
मां
Dr Parveen Thakur
हिन्दी दोहे- सलाह
हिन्दी दोहे- सलाह
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
Phool gufran
23/108.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/108.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोशिशें हमने करके देखी हैं
कोशिशें हमने करके देखी हैं
Dr fauzia Naseem shad
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
खामोशियां आवाज़ करती हैं
खामोशियां आवाज़ करती हैं
Surinder blackpen
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
...
...
Ravi Yadav
हम हिंदुस्तानियों की पहचान है हिंदी।
हम हिंदुस्तानियों की पहचान है हिंदी।
Ujjwal kumar
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
फ़ैसले का वक़्त
फ़ैसले का वक़्त
Shekhar Chandra Mitra
Loading...