Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2023 · 1 min read

अगर मेरी मोहब्बत का

अगर मेरी मोहब्बत का
आईना टूट गया तो क्या
बेखबर इस दिल को कैसे समझाऊं
यह रूठ गया तो क्या ।

है जो इन निगाहों में
उनकी ये तस्वीर
इन निगाहों को अब मैं बताऊं क्या
अगर मेरी मोहब्बत का
आईना टूट गया तो क्या ।।

वो दिन वो रातें
जो गुजारे थे तेरे संग
अब मैं उन पलों को बताऊं क्या
अगर मेरी मोहब्बत का
आईना टूट गया तो क्या ।

हो गई हो जो तुम मुझसे दूर
उन मुलाकातों का अब क्या
अगर मेरी मोहब्बत का
आईना टूट गया तो क्या ।।

1 Like · 858 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
सारथी
सारथी
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
कोई बाहों में होकर भी दिल से बहुत दूर था,
कोई बाहों में होकर भी दिल से बहुत दूर था,
Ravi Betulwala
"शेष पृष्ठा
Paramita Sarangi
"जीत की कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
तल्खियां
तल्खियां
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
■ सियासी बड़बोले...
■ सियासी बड़बोले...
*प्रणय प्रभात*
*खिलना सीखो हर समय, जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
*खिलना सीखो हर समय, जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
एक औरत की ख्वाहिश,
एक औरत की ख्वाहिश,
Shweta Soni
लम्हों की तितलियाँ
लम्हों की तितलियाँ
Karishma Shah
2930.*पूर्णिका*
2930.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माया
माया
Sanjay ' शून्य'
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
"चलो जी लें आज"
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
याद रखते अगर दुआओ में
याद रखते अगर दुआओ में
Dr fauzia Naseem shad
करवाचौथ
करवाचौथ
Mukesh Kumar Sonkar
दिल के इस दर्द को तुझसे कैसे वया करु मैं खुदा ।
दिल के इस दर्द को तुझसे कैसे वया करु मैं खुदा ।
Phool gufran
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
gurudeenverma198
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
Anand Kumar
*चांद नहीं मेरा महबूब*
*चांद नहीं मेरा महबूब*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
मसान.....
मसान.....
Manisha Manjari
पास आना तो बहाना था
पास आना तो बहाना था
भरत कुमार सोलंकी
Loading...