Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

अक्सर यूं कहते हैं लोग

अक्सर यूं कहते हैं लोग
कितना आसान है शायर बन जाना
दो इसकी कहीं दो उसकी कहीं
बस यूं ही दास्तां का बन जाना
लेकिन यह क्या जाने जमाना
कितना दर्द छुपा है
शायराना अंदाज में
अपने गमों को दूसरों
पर डालकर मुस्कुराना।

हरमिंदर कौर, अमरोहा (उत्तर प्रदेश)

2 Likes · 283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
श्याम सिंह बिष्ट
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
* चान्दनी में मन *
* चान्दनी में मन *
surenderpal vaidya
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
Satyaveer vaishnav
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
Manisha Manjari
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
*
*"बसंत पंचमी"*
Shashi kala vyas
2543.पूर्णिका
2543.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"समझ का फेर"
Dr. Kishan tandon kranti
स्त्री
स्त्री
Ajay Mishra
*****हॄदय में राम*****
*****हॄदय में राम*****
Kavita Chouhan
परछाई (कविता)
परछाई (कविता)
Indu Singh
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
gurudeenverma198
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
शेखर सिंह
झूठा घमंड
झूठा घमंड
Shekhar Chandra Mitra
Peace peace
Peace peace
Poonam Sharma
कोहली किंग
कोहली किंग
पूर्वार्थ
चुनिंदा अश'आर
चुनिंदा अश'आर
Dr fauzia Naseem shad
*नव संसद का सत्र, नया लाया उजियारा (कुंडलिया)*
*नव संसद का सत्र, नया लाया उजियारा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
छत्तीसगढ़ के युवा नेता शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana
छत्तीसगढ़ के युवा नेता शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana
Bramhastra sahityapedia
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
भाव
भाव
Sanjay ' शून्य'
Der se hi magar, dastak jarur dena,
Der se hi magar, dastak jarur dena,
Sakshi Tripathi
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
अपनी समझ और सूझबूझ से,
अपनी समझ और सूझबूझ से,
आचार्य वृन्दान्त
Loading...