Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 2 min read

अक्सर आकर दस्तक देती

अक्सर आकर दस्तक देती
यादें अपने बचपन की,
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
कसमे तुमको यौवन की ।

मेरे संग तुम होते थे तो
दिन खुशियों में गाता था,
बगियन में नित साँझ सबेरे
मिलना कितना भाता था।
फिकर नहीं थी किसी बात की
खाने और कमाने की,
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
कसमें तुमको यौवन की ।

कभी रूठते कभी मनाते,
कभी घूमते इधर-उधर,
देर रात तक खेला करते
खो-खो, सकरी, सातोंघर ।
पंख लगा उड़ गया लड़कपन
बातें हुई स्वपन की ।
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
कसमें तुमको यौवन की ।

आज डटा हूँ आ सरहद पर
बन भारत का एक सेनानी,
जहाँ सीमायें रोज सुनाती
महावीरों की शौर्य कहानी ।
यहाँ यजन है करते योद्धा
साहस, त्याग, बलिदान की,
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के,
पढ़ कसमें तुमको यौवन की ।

मुझे गर्व है मेरे वतन पर,
मुझे गर्व है मेरी सेना पर।
ध्वजा तिरंगा का हूँ प्रहरी,
गर्व है मुझको वर्दी पर।
हिंदुस्तान का फौजी होना
बात सदा इतराने की।
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
कसमें तुमको यौवन की ।

बचपन तो बचपन होता है
एक दिन सभी का जाता है,
जीवन भर का ताना-बाना
बचपन ही बुन जाता है।
अभी समय है दोनों माँ के
दूध का कर्ज चुकाने का,
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के,
कसमें तुमको यौवन की ।

गत स्मृतियाँ आती तो हैं
लेकिन तमन्ना शेष यही,
काम पड़े जब मेरे लहू का
पग न काँपे कभी कहीं।
सृजन का संकल्प यही है
यही बात दुहराने की।
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के,
कसमें तुमको यौवन की ।

-सतीश सृजन

Language: Hindi
172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
गीत
गीत
Shiva Awasthi
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
लगा समंदर में डुबकी मनोयोग से
लगा समंदर में डुबकी मनोयोग से
Anamika Tiwari 'annpurna '
2461.पूर्णिका
2461.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*जाता सूरज शाम का, आता प्रातः काल (कुंडलिया)*
*जाता सूरज शाम का, आता प्रातः काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अब इश्क़ की हर रात सुहानी होगी ।
अब इश्क़ की हर रात सुहानी होगी ।
Phool gufran
मेरा सोमवार
मेरा सोमवार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
"बलिदानी यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
हकीम बोला रकीब से
हकीम बोला रकीब से
पूर्वार्थ
कामयाबी का जाम।
कामयाबी का जाम।
Rj Anand Prajapati
मुझे ‘शराफ़त’ के तराजू पर न तोला जाए
मुझे ‘शराफ़त’ के तराजू पर न तोला जाए
Keshav kishor Kumar
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
रिश्ता एक ज़िम्मेदारी
रिश्ता एक ज़िम्मेदारी
Dr fauzia Naseem shad
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
Neeraj Agarwal
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
Ranjeet kumar patre
गीत- तेरा जो साथ मिल जाए...
गीत- तेरा जो साथ मिल जाए...
आर.एस. 'प्रीतम'
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
धरती माँ ने भेज दी
धरती माँ ने भेज दी
Dr Manju Saini
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
Vijay kumar Pandey
आग लगाते लोग
आग लगाते लोग
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
!! मेघ !!
!! मेघ !!
Chunnu Lal Gupta
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
Dr Mukesh 'Aseemit'
एक सपना
एक सपना
Punam Pande
Loading...