Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2022 · 1 min read

अक्षय तृतीया

पुण्य कार्य की अक्षय फल दाता, मंगल शुभ अक्षय तृतीया है
शुभ कार्यों का शुभ मुहूर्त,मंगलमयी अक्षय तृतीया है
जप तप दान के संचय की, मंगलमय अक्षय तृतीया है
सबसे श्रेष्ठ दान जग में,अक्षय तृतीया प्रेरित करती है
मानवता के लिए श्रेष्ठ, रचने को उद्धत रहती है
अक्षय पुण्य अक्षय उर्जा, शुभ कर्मों की शुरुआत है
पर स्वार्थ में जगने की, बहुत बड़ी सौगात है
परहित समान ना धर्म कोई, पर पीड़ा हरने की बात है
यही अक्षय भंडार परम धन, नहीं धन-संपत्ति संचय की बात है

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
1 Like · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
मैं कितना अकेला था....!
मैं कितना अकेला था....!
भवेश
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Love Is The Reason Behind
Love Is The Reason Behind
Manisha Manjari
यक्ष प्रश्न है जीव के,
यक्ष प्रश्न है जीव के,
sushil sarna
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
The Misfit...
The Misfit...
R. H. SRIDEVI
Blac is dark
Blac is dark
Neeraj Agarwal
तन्हाई में अपनी
तन्हाई में अपनी
हिमांशु Kulshrestha
रास्तों पर नुकीले पत्थर भी हैं
रास्तों पर नुकीले पत्थर भी हैं
Atul "Krishn"
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
Rituraj shivem verma
"आशिकी"
Dr. Kishan tandon kranti
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
Neeraj Naveed
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" है वही सुरमा इस जग में ।
Shubham Pandey (S P)
कभी शांत कभी नटखट
कभी शांत कभी नटखट
Neelam Sharma
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पिता के नाम पुत्री का एक पत्र
पिता के नाम पुत्री का एक पत्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आता जब समय चुनाव का
आता जब समय चुनाव का
Gouri tiwari
3368.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3368.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बेटियां
बेटियां
Madhavi Srivastava
माँ
माँ
Harminder Kaur
कवि
कवि
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भविष्य के सपने (लघुकथा)
भविष्य के सपने (लघुकथा)
Indu Singh
विष बो रहे समाज में सरेआम
विष बो रहे समाज में सरेआम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पानी से पानी पर लिखना
पानी से पानी पर लिखना
Ramswaroop Dinkar
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
Mahima shukla
Loading...