Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।

अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
दंभ लिए ज्ञानी मानव भी, सदाचार रहित परम हर होगा।।
वशीभूत स्वयं भावना के, पाप करेगा मानव छल बल से।
संतोष नहीं होगा प्रीतम, जब होगा पैदल बड़ा अक़्ल से।।

#आर. एस. ‘प्रीतम’
#स्वरचित रचना

2 Likes · 361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
*आए दिन त्योहार के, मस्ती और उमंग (कुंडलिया)*
*आए दिन त्योहार के, मस्ती और उमंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
इश्क़ में हम कोई भी हद पार कर जायेंगे,
इश्क़ में हम कोई भी हद पार कर जायेंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr Archana Gupta
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
नूरफातिमा खातून नूरी
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
लक्ष्मी सिंह
अपना-अपना भाग्य
अपना-अपना भाग्य
Indu Singh
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अनजान लड़का
अनजान लड़का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भर लो नयनों में नीर
भर लो नयनों में नीर
Arti Bhadauria
माँ से मिलने के लिए,
माँ से मिलने के लिए,
sushil sarna
*प्यार भी अजीब है (शिव छंद )*
*प्यार भी अजीब है (शिव छंद )*
Rituraj shivem verma
उम्मीद का दामन।
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण
महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण
Subhash Singhai
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
Dr Parveen Thakur
फूल फूल और फूल
फूल फूल और फूल
SATPAL CHAUHAN
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
Chunnu Lal Gupta
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
दान किसे
दान किसे
Sanjay ' शून्य'
2537.पूर्णिका
2537.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...