Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 2 min read

अंतिम पड़ाव

हो बचपन-यौवन या समृद्ध-वृद्ध, सब समय के चक्र का हिस्सा है।
ये पर्वत घाटी या हरी-भरी थाती, सब पृथ्वी के वक्र का किस्सा है।
शरद चाॅंदनी में वृक्षों से हर पत्ता, पलक झपकते ही झरने लगा है।
अंतिम पड़ाव पे खड़े जीवन का, लौट जाने को मन करने लगा है।

विचारों से ही बुद्धि की शुद्धि हो, हर शंका का निवारण निश्चित है।
यही है सृष्टि का पुराना नियम, जन्मे हर जीव को मरण निश्चित है।
सत्य जानते ही मानव हृदय भी, मृत्यु के विचार से उबरने लगा है।
अंतिम पड़ाव पे खड़े जीवन का, लौट जाने को मन करने लगा है।

समर्पण, सद्भाव व सहभागिता, इनका प्राणी तनिक न भान करे।
पैसा, पद व प्रतिष्ठा सब नश्वर हैं, बन्दे तू किस बात का मान करे?
सतत दया भाव के जागने से, एक अभिमानी चरित्र मरने लगा है।
अंतिम पड़ाव पे खड़े जीवन का, लौट जाने को मन करने लगा है।

कभी तो जोश में बहके इस दिल ने, कई मौकों पर धोखे खाए हैं।
पाप, संताप, व्यथा व मिलाप जैसे, असंख्य भाव इसमें समाए हैं।
अपने दिल का ऐसा हाल हुआ, ये तो धड़कने से भी डरने लगा है।
अंतिम पड़ाव पे खड़े जीवन का, लौट जाने को मन करने लगा है।

पहले तो इस दिल से भाव निकले, फिर उन भावों से ताव निकले।
ताव ने अलगाव का इशारा दिया, हर इशारे से भी प्रस्ताव निकले।
ख़ाली घर भी दिल बहलाते हुए, हर ख़ाली कोने को भरने लगा है।
अंतिम पड़ाव पे खड़े जीवन का, लौट जाने को मन करने लगा है।

घर सब लोगों को साथ रखता, लोगों से ही घर-परिवार बनता है।
अधिकार इस जीवन को मिले, जीवन है तभी अधिकार बनता है।
कल बेसुरा लगता हर साज़, आज ख्यालों में नीचे उतरने लगा है।
अंतिम पड़ाव पे खड़े जीवन का, लौट जाने को मन करने लगा है।

समुद्र भी पूरी मौज में बहता, उसकी लहरों में जब रवानी होती है।
प्राणी भी ऊॅंचे गगन में उड़ता, उसकी रगों में जब जवानी होती है।
पहले तो कहीं रुकता नहीं था, आज हर स्थान पर ठहरने लगा है।
अंतिम पड़ाव पे खड़े जीवन का, लौट जाने को मन करने लगा है।

यौवन की कलियाॅं खिलते ही, प्रेम प्रसंग में ज्वालामुखी फूट गया।
प्रेम में भाव के विफल होते ही, यादों का झूठा दर्पण भी टूट गया।
उन टुकड़ों में ख़ुद को ढूॅंढ़ते हुए, ये शीशे के आगे सॅंवरने लगा है।
अंतिम पड़ाव पे खड़े जीवन का, लौट जाने को मन करने लगा है।

पहले तो बेधड़क आगे बढ़ता गया, अंजाम की चिंता की ही नहीं।
प्राणी केवल परीक्षण करता गया, परिणाम की चिंता की ही नहीं।
अब हालातों से विचलित मन, उन पुरानी बातों पे विचरने लगा है।
अंतिम पड़ाव पे खड़े जीवन का, लौट जाने को मन करने लगा है।

अब तो उम्र बुढ़ापे की ओर बढ़ी, जिसमें पश्चाताप ही शेष बचेगा।
बातें, वादे, इरादे सभी निकलेंगे, बस कर्म-मर्म ही अवशेष बचेगा।
होनी-अनहोनी से जुड़ी, असंख्य बातों का सैलाब उमड़ने लगा है।
अंतिम पड़ाव पे खड़े जीवन का, लौट जाने को मन करने लगा है।

6 Likes · 2 Comments · 81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
View all
You may also like:
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
सच
सच
Neeraj Agarwal
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
Neelam Sharma
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
पूर्वार्थ
2969.*पूर्णिका*
2969.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बची रहे संवेदना...
बची रहे संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
अंकित आजाद गुप्ता
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मंदिर जाना चाहिए
मंदिर जाना चाहिए
जगदीश लववंशी
कई तो इतना भरे बैठे हैं कि
कई तो इतना भरे बैठे हैं कि
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी मौत पर
ज़िंदगी मौत पर
Dr fauzia Naseem shad
11. *सत्य की खोज*
11. *सत्य की खोज*
Dr Shweta sood
सफल सिद्धान्त
सफल सिद्धान्त
Dr. Kishan tandon kranti
चाहता हे उसे सारा जहान
चाहता हे उसे सारा जहान
Swami Ganganiya
खुले आम जो देश को लूटते हैं।
खुले आम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जय लगन कुमार हैप्पी
ताशीर
ताशीर
Sanjay ' शून्य'
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
विजय कुमार अग्रवाल
दिल की गलियों में कभी खास हुआ करते थे।
दिल की गलियों में कभी खास हुआ करते थे।
Phool gufran
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
Ranjeet kumar patre
चुलबुली मौसम
चुलबुली मौसम
अनिल "आदर्श"
अमीर घरों की गरीब औरतें
अमीर घरों की गरीब औरतें
Surinder blackpen
मोक्ष
मोक्ष
Pratibha Pandey
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
Suryakant Dwivedi
कर्म कांड से बचते बचाते.
कर्म कांड से बचते बचाते.
Mahender Singh
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...