Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

अंतिम इच्छा

तेरी बांहों में
यदि मर जाता
तो जीते जी ही
मैं तर जाता…
(१)
तन-मन-धन
जीवन अपना
सब नाम तेरे
मैं कर जाता…
(२)
तेरे रसवंती
होठ छूकर
अंतर्घट तक
मैं भर जाता…
(३)
तू खड़ी होती
बस साथ मेरे
तो क्या दुनिया से
मैं डर जाता…
(४)
ये आधी रात
ये वीराना
गांव में होता तो
मैं घर जाता…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#गीत #कवि #bollywood #गीतकार
#प्रेम #शायर #रोमांटिक #Lyricist
#lyrics #poetry #dreamgirl #love

141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
डी. के. निवातिया
इस धरातल के ताप का नियंत्रण शैवाल,पेड़ पौधे और समन्दर करते ह
इस धरातल के ताप का नियंत्रण शैवाल,पेड़ पौधे और समन्दर करते ह
Rj Anand Prajapati
तेरा होना...... मैं चाह लेता
तेरा होना...... मैं चाह लेता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
Vedha Singh
नारी
नारी
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"चलना और रुकना"
Dr. Kishan tandon kranti
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
कितने हीं ज़ख्म हमें छिपाने होते हैं,
Shweta Soni
3486.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3486.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
*युद्ध*
*युद्ध*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
प्यासे को
प्यासे को
Santosh Shrivastava
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
Buddha Prakash
माँ की छाया
माँ की छाया
Arti Bhadauria
चंदा मामा से मिलने गए ,
चंदा मामा से मिलने गए ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
Ram Krishan Rastogi
■ गीत (दर्शन)
■ गीत (दर्शन)
*Author प्रणय प्रभात*
तब तो मेरा जीवनसाथी हो सकती हो तुम
तब तो मेरा जीवनसाथी हो सकती हो तुम
gurudeenverma198
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
*गैरों सी! रह गई है यादें*
*गैरों सी! रह गई है यादें*
Harminder Kaur
? ,,,,,,,,?
? ,,,,,,,,?
शेखर सिंह
क्या लिखूं ?
क्या लिखूं ?
Rachana
*बुरे फँसे सहायता लेकर 【हास्य व्यंग्य】*
*बुरे फँसे सहायता लेकर 【हास्य व्यंग्य】*
Ravi Prakash
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
Taj Mohammad
ओ मैना चली जा चली जा
ओ मैना चली जा चली जा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...