Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Dec 2023 · 2 min read

अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक

अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक

यह मुक्तक जैसे ही हैं , जिनका “आधार लय युक्त तुकबंदी है” , यह तुक्तक किसी छंद की मापनी या आधार पर नहीं होते है , यदि स्वाभाविक मिलान भी हो जाए तो , तब वर्तमान में प्रस्फुटित नव कविता( पिरामिड) में उनका नाम उपयोग उचित नहीं है

पिरामिड कविता नए नए आकार में लिखी जा रही है , जैसे धनुषाकार में भी सामने आई है

यहाँ हम पिरामिड तुक्तक बनाकर अंताक्षरी नियम का पालन करकें
” अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक ” प्रस्तुत कर रहे है

(प्रारंभ के तुक्तक का अंतिम शब्द , अगला तुक्तक प्रारंभ होगा , व क्रमशा: दो मात्रा बढ़‌ जाती है इसी तरह क्रमशा: “पिरामिड अंताक्षरी तुक्तक” बढ़ते जाएगें )
आप किसी भी मात्रा से प्रारंभ हो सकते है
कम से कम 4 या 5 तुक्तकों से एक अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक तैयार होता है |
~~~~~~~~~~~
( गा गा पदांत के ) अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक

मात्रा 10

फूल नहीं पलते
खिलकर वह ढलते
जीवन भी ऐसा –
रुक जाता चलते |

12 मात्रा

चलते जाओ यारा ,
बनना सदा सितारा ,
आँसू पीना सीखों –
नहीं रहेगा खारा |

14 मात्रा
खारा जीवन मत जानो ,
अपने को अब पहचानो ,
किसी लक्ष्य को पाना है
तब बन जाओ दीवानो |

16 मात्रा
दीवानो की बात निराली ,
खुद ही बगिया के खुद माली ,
मस्त फकीरी में दिन रहते –
बजती रहती हरदम ताली |

18 मात्रा
ताली जीवन में जब आती है ,
मस्ती मन के अंदर छाती है ,
जीवन में भी कुछ खुश्बू आती
बगिया मन की वह महकाती है |

20 मात्रा
महकाती है जीवन को जब डाली ,
फूलों को भरकर लाता है माली ,
तभी सफल जीवन उसका हो जाता –
जब ईश्वर देने लगता उजयाली |

सुभाष सिंघई
~~~~~~~~~~~
तुक्तक ( गाल पदांत के )

( 11 मात्रा)

जीवन के दिन चार ,
मत करना बेकार ,
लेना हरि का नाम –
होगा बेड़ा पार |

(13 मात्रा )

पार लगाता है ईश ,
कहलाता जो जगदीश ,
लेते हैं जब उसका नाम –
मिटती तब मन की टीस |

15 मात्रा
टीस कभी मत दिल में पाल ,
आ जाए तो उसे निकाल ,
निर्विकार मन रखना यार –
सदा मिटेगें जग जंजाल |

17 मात्रा

जंजाल यहाँ पर चारों ओर ,
सुने हाय का उठता हम शोर
लोग मचाते रहते है धूम –
सभी लगाते है अपना जोर |

( 19 मात्रा )

जोर लगाना जहाँ धर्म के बोल ,
दान दया के होते क्षण अनमोल ,
सुख मिलता जब अच्छे होते काम –
मन के भी मिट जाते है सब झोल |
~~~~~~~~~~~~~~~~

लगा के तुक्तक

9 मात्रा

देखा सब जहाँ ,
कलरव है यहाँ _
काँटे है लगे-
यहाँ न कुछ वहाँ |

11 मात्रा

वहाँ नहीं तुम रहो ,
वचन कथन मत कहो ,
मूर्ख जहाँ कुछ कहें –
बात न उनकी सहो |

13 मात्रा

सहो न कोई घात को ,
कटुता भरती बात को ,
नहीं पालिये कायरता –
अपने अंदर मात को |

15 मात्रिक

मात को न दिल से मानिए ,
सीख मिले यह सच जानिए ,
असर मात का कुछ दिन रहे –
जरा जीत का हल ठानिए |

सुभाष सिंघई
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
इन अंताक्षरी तुक्तकों को आप आप किसी भी गण के पदांत में ले जा सकते है पर लय युक्त हो |
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
धनुष तुक्तक

आओ
कुछ लाओ
गीत सुनाओ
मस्ती में गाओ
चाहत पाओ
मुस्काओ
आओ
~~~~~~~
धनुष का शिरा , आओ से प्रारंभ हुआ था ,
और आओं पर ही समाप्त होगा |
~~~~~~~~~~~~~
सुभाष सिंघई

Language: Hindi
90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
अनिल कुमार
****मतदान करो****
****मतदान करो****
Kavita Chouhan
Thunderbolt
Thunderbolt
Pooja Singh
आज कोई नही अनजान,
आज कोई नही अनजान,
pravin sharma
अरमान
अरमान
Neeraj Agarwal
हो गई है भोर
हो गई है भोर
surenderpal vaidya
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
तुम याद आये !
तुम याद आये !
Ramswaroop Dinkar
3122.*पूर्णिका*
3122.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
Satish Srijan
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
सवर्ण
सवर्ण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
VISHAL
VISHAL
Vishal Prajapati
कवि की लेखनी
कवि की लेखनी
Shyam Sundar Subramanian
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
Kshma Urmila
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
श्याम सिंह बिष्ट
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
"गूंगी ग़ज़ल" के
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन में सुख-चैन के,
जीवन में सुख-चैन के,
sushil sarna
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
gurudeenverma198
रामपुर का किला : जिसके दरवाजों के किवाड़ हमने कभी बंद होते नहीं देखे*
रामपुर का किला : जिसके दरवाजों के किवाड़ हमने कभी बंद होते नहीं देखे*
Ravi Prakash
अंत में पैसा केवल
अंत में पैसा केवल
Aarti sirsat
त्याग
त्याग
Punam Pande
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
रामायण में भाभी
रामायण में भाभी "माँ" के समान और महाभारत में भाभी "पत्नी" के
शेखर सिंह
गरीबी हटाओं बनाम गरीबी घटाओं
गरीबी हटाओं बनाम गरीबी घटाओं
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
कि लड़का अब मैं वो नहीं
कि लड़का अब मैं वो नहीं
The_dk_poetry
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शक्तिहीनों का कोई संगठन नहीं होता।
शक्तिहीनों का कोई संगठन नहीं होता।
Sanjay ' शून्य'
Loading...