Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2023 · 1 min read

अंतराष्टीय मजदूर दिवस

मना रहे है हर वर्ष मजदूर दिवस,
फिर भी मजदूर आज भी विवश।
बदल नही पाए उसकी विवशता,
चाहे मना लो तुम कितने दिवस।।

जो बनाता है मकान दुसरो के लिए,
नही बना सका मकान खुद के लिए।
वह मर रहा है आज भी देश के लिए,
बताओ कौन मर रहा है उसके लिए।।

कितने ही दशक आज बीत चुके है,
उसका जीवन न हम बदल चुके है।
रहा मजबूर मजदूर वैसा जैसा ही,
बताओ कितने प्रयत्न कर चुके है।।

पूछ रहा हूं प्रश्न सत्ता की सरकारों से,
क्यो मौन बनी हुई झूठी सरकारों से।
क्यो नही हित करते बेचारे मजदूरों का
शायद कोई उम्मीद नहीं सरकारों से।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 473 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
बेवकूफ
बेवकूफ
Tarkeshwari 'sudhi'
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
अर्ज है
अर्ज है
Basant Bhagawan Roy
■ आज ही बताया एक महाज्ञानी ने। 😊😊
■ आज ही बताया एक महाज्ञानी ने। 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हें आती नहीं क्या याद की  हिचकी..!
तुम्हें आती नहीं क्या याद की हिचकी..!
Ranjana Verma
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko!
Srishty Bansal
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
Ravi Prakash
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
Rashmi Ranjan
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
खुद को मैंने कम उसे ज्यादा लिखा। जीस्त का हिस्सा उसे आधा लिखा। इश्क में उसके कृष्णा बन गया। प्यार में अपने उसे राधा लिखा
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"जियो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
** फितरत **
** फितरत **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
राखी सांवन्त
राखी सांवन्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
शेखर सिंह
पुरानी पेंशन
पुरानी पेंशन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
!! होली के दिन !!
!! होली के दिन !!
Chunnu Lal Gupta
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
Dr Archana Gupta
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Neeraj Agarwal
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कुछ नमी
कुछ नमी
Dr fauzia Naseem shad
2696.*पूर्णिका*
2696.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यहाँ पाया है कम, खोया बहुत है
यहाँ पाया है कम, खोया बहुत है
अरशद रसूल बदायूंनी
Loading...