Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2023 · 1 min read

अंतरंग प्रेम

अब तक तो अपने दिल को मैंने
रखा है पूरी उम्मीदों से भर कर
जब कभी याद तुम्हारी आती है
तो नाम भी लेता हूॅं डर डर कर
यह सबसे छुप-छुपकर मिलने का
कब तक इस तरह चलेगा दौर
कहीं मैं देखता ही न रह जाऊं
तुम्हें लेकर चला जाए कोई और
खुलकर कैसे बतलाएं लोगों को
तुम्हारे बिन अब रह नहीं सकता
साथ जीने की बात तो छोड़ो
अकेले मर भी तो नहीं सकता
ऐसा हमने क्या कर दिया है जो
हो गया है हमसे बहुत बड़ा गुनाह
हमारे प्यार को क्यों लग गई है
सभी अपने लोगों की ही आह
कुछ भी नहीं होता है अगर तो
चलो मिलकर कहीं भाग चलेंगे
पकड़े जाने की बात होगी तो
दोनों साथ ही दरिया में डूब मरेंगे
पर यह सदा के लिए हो जाएगी
बिल्कुल कायरों जैसी बात
इससे हमारे निश्चल प्रेम पर
अकस्मात हो जाएगा आघात
चलो एक बार फिर कहीं से
करते हैं अपनी नई शुरुआत
डर डर कर अब अधिक नहीं
खुलकर रखते हैं अपनी बात
जो हो गया सो हो गया है अब
मुझे अभी भी पूरा है विश्वास
इससे नहीं टूटेगी फिर कभी
अपने अखंड प्यार की आस

Language: Hindi
1 Like · 313 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
#ऐसी_कैसी_भूख?
#ऐसी_कैसी_भूख?
*प्रणय प्रभात*
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
ग़ज़ल (यूँ ज़िन्दगी में आपके आने का शुक्रिया)
ग़ज़ल (यूँ ज़िन्दगी में आपके आने का शुक्रिया)
डॉक्टर रागिनी
How to say!
How to say!
Bidyadhar Mantry
3320.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3320.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आभ बसंती...!!!
आभ बसंती...!!!
Neelam Sharma
इन्सान बन रहा महान
इन्सान बन रहा महान
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
అమ్మా దుర్గా
అమ్మా దుర్గా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
प्रेमदास वसु सुरेखा
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तुम न आये मगर..
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
"वक्त कहीं थम सा गया है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
समाज को जगाने का काम करते रहो,
समाज को जगाने का काम करते रहो,
नेताम आर सी
वोट डालने जाना
वोट डालने जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
लगाकर मुखौटा चेहरा खुद का छुपाए बैठे हैं
Gouri tiwari
# कुछ देर तो ठहर जाओ
# कुछ देर तो ठहर जाओ
Koमल कुmari
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
मतलब हम औरों से मतलब, ज्यादा नहीं रखते हैं
मतलब हम औरों से मतलब, ज्यादा नहीं रखते हैं
gurudeenverma198
छोटी-सी मदद
छोटी-सी मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
अभिनव अदम्य
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
Lokesh Sharma
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
पूर्वार्थ
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
मेरे कृष्ण की माय आपर
मेरे कृष्ण की माय आपर
Neeraj Mishra " नीर "
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
VINOD CHAUHAN
"दिमाग"से बनाये हुए "रिश्ते" बाजार तक चलते है!
शेखर सिंह
पिता दिवस
पिता दिवस
Neeraj Agarwal
खवाब
खवाब
Swami Ganganiya
Loading...