Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2018 · 2 min read

अंग्रेजी का जब से ये दौर चला

जब से अंॻेजी का दौर चला,कहने सुनने वालो का होता भला,न कह सकने वालों का हो गया बुरा,परदेश से आया और यहीं का हो चला,
भारत कि माटी में यह पला बढा,
हर गली कूचे में घुमा व खेला,
पर हमें ही अपनी जुबाँ से कर दुर चला,
आज हर राज्य में पढी लिखी,व बोली जाती है यह,
थी राज भाषा जो हम सबकी अपनी,
उसे ही बेगानी बना गयी है यह,
हिन्दी से करते हैं कुछ यों परहेज,
थोपी जा रही है हम पर,हमें स्वीकार नही,
अंग्रेजी कि है यह निराली कला,
अंग्रेजी का जब से ये दौर चला।
बढप्पन का मानक है आज अंॻेजी,
रोजगार की कुंजी भी है आज अंग्रेजी,
समाज मे सम्मान पाने का पैमाना है अंग्रेजी,
जो न पढ पाये हैं इसको,उनकी समस्या है अंग्रेजी,
पढ और गुन गये है जो इसको,,
उनकी भाग्यविधाता बन बैठी है अग्रेजी,
अंग्रेजी बन गई हैअब अभेद्य किला,
अंग्रेजी का जब से दौर चला ।
समारोहों में,सानो शौकत दिलाती है अंग्रेजी,
हिन्दी दिवस पर भी बोली जाती है अंग्रेजी,
जो होते हैं आमंत्रित कहने को हिन्दी,
उनकी जुबाँ पर बरबस अा जाती है अंग्रेजी,
अभिब्यक्ति कि हो चली है आसान कला,
अंग्रेजी का जब से यह दौर चला,
हैं भ्रम पाले मुझ जैसे अनेकों इंन्सान,
मानते हैं जो हिन्दी को अपनी जुबान,
कर गये जो हिन्दी के लिये अपनी जाँ कुर्बान,
तब जाकर रख पाये वह इसका मान,
प्रचारित करते रहे हिन्दी का ज्ञान,
वह दिनकर,जयशंकर और मैथली की थी माला,
सर्वेश्वर,शाही,महादेवी और निराला,
इन्होने हिन्दी को अपनी जान से ज्यादा है पाला,
उम्मीद पर इसकी कि कभी तो छटेगा ,अन्धेरा,
और आयेगा उजाला।

Language: Hindi
476 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jaikrishan Uniyal
View all
You may also like:
प्रेम साधना श्रेष्ठ है,
प्रेम साधना श्रेष्ठ है,
Arvind trivedi
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
कार्तिक नितिन शर्मा
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें
gurudeenverma198
इन समंदर का तसव्वुर भी क्या ख़ूब होता है,
इन समंदर का तसव्वुर भी क्या ख़ूब होता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
Paras Nath Jha
मिली उर्वशी अप्सरा,
मिली उर्वशी अप्सरा,
लक्ष्मी सिंह
2483.पूर्णिका
2483.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं इश्क़ की बातें ना भी करूं फ़िर भी वो इश्क़ ही समझती है
मैं इश्क़ की बातें ना भी करूं फ़िर भी वो इश्क़ ही समझती है
Nilesh Premyogi
खानदानी चाहत में राहत🌷
खानदानी चाहत में राहत🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पिता
पिता
Swami Ganganiya
"I am slowly learning how to just be in this moment. How to
पूर्वार्थ
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
#प्रातःवंदन
#प्रातःवंदन
*प्रणय प्रभात*
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
Dr MusafiR BaithA
अगर कोई आपको गलत समझ कर
अगर कोई आपको गलत समझ कर
ruby kumari
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
Babli Jha
हमेशा फूल दोस्ती
हमेशा फूल दोस्ती
Shweta Soni
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
sushil sarna
शनिवार
शनिवार
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
कविता
कविता
Neelam Sharma
*देव हमें दो शक्ति नहीं ज्वर, हमें हराने पाऍं (हिंदी गजल)*
*देव हमें दो शक्ति नहीं ज्वर, हमें हराने पाऍं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हुनर से गद्दारी
हुनर से गद्दारी
भरत कुमार सोलंकी
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
या खुदाया !! क्या मेरी आर्ज़ुएं ,
या खुदाया !! क्या मेरी आर्ज़ुएं ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सच तो रंग काला भी कुछ कहता हैं
सच तो रंग काला भी कुछ कहता हैं
Neeraj Agarwal
"आखिरी निशानी"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त वक्त की बात है ,
वक्त वक्त की बात है ,
Yogendra Chaturwedi
Loading...