Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

*** अंकुर और अंकुरित मन…..!!! ***

“” तुम उगना चाहते हो…
और मैं बढ़ना चाहता हूँ…!
तुम एक से अनेक…
और मैं केवल संवरना चाहता हूँ…!
तुम और मैं…
हैं एक ओस-बूंद की तरह…!
हम मिलेंगे, बिखरेंगे…
सजेंगे, संवरेंगे, अनजान राही की तरह…!
जिंदगी की सफ़र…
अनवरत चलेंगे…!
जिस राह में जिंदगी ले चले…
चलने की भरसक कोशिश करेंगे…!
हम-तुम चलेंगे धीरे-धीरे…
तुम राह से कुछ मोती संजोना…!
और मैं…
कुछ तिनके उठा लूंगा,
तुम…!
हरियाली की चादर ओढ़,
नदन-मधुवन सा इठलाना…!
मैं भी इन तिनकों से…
छोटी सी कुटिया एक बना लूंगा…!
और…
तेरे ही एक किनारे में,
नन्हे बालक सा छूप जाऊँगा…!
न जाने कब…?
आंधी आ जाए…
कुछ बहरूपिये हवा,
तेरा कमर तोड़ जाए….!
न जाने कब…?
मेरे सपने बिखर जाए…!
पर… हां…!
एक बात सत्य है…!
मैं और तुम…
जब एक हो जायेंगे…!
जिंदगी की हर एक मोड़…
जिंदगी की हर सफ़र,
कुछ आसान हो जायेंगे…!
अन्यथा…
तुम पत्ते-पत्ते हो, बिखर जाओगे…!
और…
मैं तिनके की गिनती में सिमट जाऊँगा…!
मैं तिनके की गिनती में सिमट जाऊँगा…!! “”

*************∆∆∆************

Language: Hindi
1 Like · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
संसाधन का दोहन
संसाधन का दोहन
Buddha Prakash
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2632.पूर्णिका
2632.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
Rohit yadav
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
सुकर्मों से मिलती है
सुकर्मों से मिलती है
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
Dr.Pratibha Prakash
मेरे गली मुहल्ले में आने लगे हो #गजल
मेरे गली मुहल्ले में आने लगे हो #गजल
Ravi singh bharati
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
अगर जाना था उसको
अगर जाना था उसको
कवि दीपक बवेजा
*जीता हमने चंद्रमा, खोज चल रही नित्य (कुंडलिया )*
*जीता हमने चंद्रमा, खोज चल रही नित्य (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)
🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)
*Author प्रणय प्रभात*
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
कलियुग
कलियुग
Bodhisatva kastooriya
पागल
पागल
Sushil chauhan
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-169💐
💐प्रेम कौतुक-169💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शुद्ध
शुद्ध
Dr.Priya Soni Khare
Loading...