Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2016 · 1 min read

अँधेरी बस्तियों को रोशनी का सिलसिला देना

अँधेरी बस्तियों को रोशनी का सिलसिला देना
उजालों की तमन्ना में हमारा दिल जला देना

सजाये ख़्वाब है हमने लहू का रंग भर भर कर
हमें आया न नींदों को ख़ुदा का वास्ता देना

जिगर के ज़ख़्म जलते हैं लबों से आह उठती है
नहीं आसान है यूँ अश्क आँखों से गिरा देना

वफ़ादारी निभाई है वफ़ा के नाम पर हर दिन
तुम्हें दिल दे दिया हमने तुम्हें अब और क्या देना

तराशे जा रहे हैं रोज़ कुछ पत्थर न जाने क्यों
यहाँ है शौक़ लोगों का ख़ुदा का घर मिटा देना

अभी से दे रहा दस्तक सियासत का नया मौसम
बग़ावत हम नहीं करते उसूलों से बता देना

राकेश दुबे “गुलशन”
22/07/2016
बरेली

288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
★
पूर्वार्थ
एक मीठा सा एहसास
एक मीठा सा एहसास
हिमांशु Kulshrestha
मां बेटी
मां बेटी
Neeraj Agarwal
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
ruby kumari
बड़ा भोला बड़ा सज्जन हूँ दीवाना मगर ऐसा
बड़ा भोला बड़ा सज्जन हूँ दीवाना मगर ऐसा
आर.एस. 'प्रीतम'
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
प्यार भी खार हो तो प्यार की जरूरत क्या है।
प्यार भी खार हो तो प्यार की जरूरत क्या है।
सत्य कुमार प्रेमी
3016.*पूर्णिका*
3016.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गिलोटिन
गिलोटिन
Dr. Kishan tandon kranti
सरहद
सरहद
लक्ष्मी सिंह
मन को जो भी जीत सकेंगे
मन को जो भी जीत सकेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
Shivkumar Bilagrami
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
नवल किशोर सिंह
कहने की कोई बात नहीं है
कहने की कोई बात नहीं है
Suryakant Dwivedi
हुआ चैत्र आरंभ , सुगंधित कपड़े पहने (कुंडलिया)
हुआ चैत्र आरंभ , सुगंधित कपड़े पहने (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गीत
गीत
Shiva Awasthi
#सामयिक_विमर्श
#सामयिक_विमर्श
*Author प्रणय प्रभात*
सुहागन की अभिलाषा🙏
सुहागन की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कोहरा और कोहरा
कोहरा और कोहरा
Ghanshyam Poddar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
Ankita Patel
तन पर तन के रंग का,
तन पर तन के रंग का,
sushil sarna
भोजपुरीया Rap (2)
भोजपुरीया Rap (2)
Nishant prakhar
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
Keshav kishor Kumar
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
Loading...