Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2016 · 1 min read

अँगूरी अर्क

लड़का लड़की में दिखे ,यहाँ न कोई फर्क
दोनों को भाने लगे , खूब अँगूरी अर्क
खूब अँगूरी अर्क , पियें सिगरट सँग हुक्का
ऐसों की भरमार ,न अब ये इक्का दुक्का
कहे अर्चना बात ,न सेवन अच्छा इनका
करतीं ये बर्बाद , पिए लड़की या लड़का

डॉ अर्चना गुप्ता

175 Views
You may also like:
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
*..... और मैं पिताजी को खुश देखने के लिए सुंदर...
Ravi Prakash
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां के आंचल
Nitu Sah
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
कह न पाई मै,बस सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
सलाम
Shriyansh Gupta
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
बदल गए अन्दाज़।
Taj Mohammad
जरूरत उसे भी थी
Abhishek Pandey Abhi
श्री गणेशाय नमः
जगदीश लववंशी
सुबह की एक किरण
कवि दीपक बवेजा
ख्वाहिश
अमरेश मिश्र 'सरल'
ध्यान
विशाल शुक्ल
गीत
Shiva Awasthi
सफलता की कुंजी ।
Anamika Singh
सबको जीवन में खुशियां लुटाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
सुना था हमने, इश्क़ बेवफ़ाई का नाम है
N.ksahu0007@writer
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
:::::जर्जर दीया::::
MSW Sunil SainiCENA
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सुविचारों का स्वागत है
नवीन जोशी 'नवल'
जाति प्रथा का अंत
Shekhar Chandra Mitra
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
कहना मत राज की बातें
gurudeenverma198
जिंदगी के रंग
shabina. Naaz
अब फक़त तेरा सहारा, न सहारा कोई।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खोकर के अपनो का विश्वास ।....(भाग - 3)
Buddha Prakash
जीएं हर पल को
Dr fauzia Naseem shad
✍️कुदरत और फ़ितरत
'अशांत' शेखर
Loading...