Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Jun 5, 2016 · 1 min read

अँगूरी अर्क

लड़का लड़की में दिखे ,यहाँ न कोई फर्क
दोनों को भाने लगे , खूब अँगूरी अर्क
खूब अँगूरी अर्क , पियें सिगरट सँग हुक्का
ऐसों की भरमार ,न अब ये इक्का दुक्का
कहे अर्चना बात ,न सेवन अच्छा इनका
करतीं ये बर्बाद , पिए लड़की या लड़का

डॉ अर्चना गुप्ता

127 Views
You may also like:
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
यादें
Sidhant Sharma
कलम
Dr Meenu Poonia
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
✍️प्रकृति के नियम✍️
"अशांत" शेखर
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
"ईद"
Lohit Tamta
हनुमंता
Dhirendra Panchal
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
धुँध
Rekha Drolia
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
✍️कधी कधी✍️
"अशांत" शेखर
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
Loading...