साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Radhey shyam Pritam

Radhey shyam Pritam
Posts 77
Total Views 2,819

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

आँचल संभाल कर चलना : कविता

आँचल संभाल कर चलना हवाएँ तेज हैं। कमसिन उम्र की होती ये [...]

गीत : ये दिल की बात है

दिल की बात लब पर आती नहीं। बिन कहे भी रूह चैन पाती [...]

कुंडलिया : शहीदों को सलाम

शहीद दिवस पर करते,शहीदों को सलाम। जिनकी बदोलत है ये,स्वतंत्र [...]

गजल : एक रंग है खून का

कुछ लोग हैं जो अहंकार लेकर आए हैं। हम तो अपने दिल में प्यार [...]

होली गीत

रंगबिरंगें फूलों जैसा,है त्योहार ये होली का। प्यार सिखाए [...]

साहिल कहीं नजर न आए: गजल

दोनों किनारे डूब गए दिले-दरिया तूफानी में। ऐसी विरह की चोट [...]

तुम्हें रीझाने आएंगे: गजल

वक्त आएगा खुशी के खजाने आएंगे। एकदिन रूठे भी हमें मनाने [...]

लचकी डाली : गजल

झर गया फूल,जो लचकी डाली। कोई नहीं है यहाँ,गम से खाली।। तू कहे [...]

गजल : दिल जलता है धुआँ उठता नहीं

आज दिल मेरा कहीं भी लगता नहीं। तेरी यादों में उलझा है निकलता [...]

कुंडलिया – 3

तब हृदय में लगी चोट,देखा चूरन नोट। एटीएम की खूबी,या कर्मी का [...]

गजल :सीख ले ले यार

"प्रीतम"मिशाल खुद के तजरूबे की दीजिए। गैरों से तो हमने है [...]

अपना-अपना नजरिया

अपना-अपना नजरिया ************** दिल दिया जिसको हो गया रकीब। वो [...]

गजल

आज मिलके उनसे खारो-गम निकल गये। बदले-बदले उनके मिजाज हमें [...]

गजल ःः छूकर तेरी यादों को

इस तरह से अपने गम को छिपा लेते हैं हम। दिल तेरा रखने को यार [...]

घर संसार की बातें

आओ सिखा दूँ मैं,कुछ व्यवहार की बातें। याद हमेशा तुम [...]

कुंडलिया

एक भ्रम भूल जाइए,दंभ भरने का तुम। खुशियां ही खुशियां [...]

कविता : शिक्षा धन अद्भुत अनुपम

घर-घर फैलेगा जब शिक्षा-दीप उजियारा। विश्व-प्रमुख बनेगा उस [...]

नकल उन्मूलन

नकल से मंजिल आसान नहीं होती। बिन पंख के जैसे उडान नहीं [...]

गीत

आ दो चार कर लें हम,प्यार की बातें। कुछ तेरी कुछ मेरी,कुछ संसार [...]

गजल : बात पते की

हर चीज की कीमत यहाँ,क्यों दुनिया भूल जाती है। बंद पडी घडी [...]

कुंडलिया छंद : गणतंत्र-दिवस प्यारा

तिरंगा प्यारा फहरा,इस दिवस बनी शान। इस क्षण को लाने में,शहीद [...]

गजल : गणतंत-दिवस

आओ गणतंत्र-दिवस हम,अबके मनाएं ऐसे। दिल में भरलें उमंगें [...]

गजल :नजर से नजर मिली

नजर से नजर मिली प्यार हो गया है। इश्क में दिल गंगा की धार हो [...]

गजल : सीखो प्रकृति से कुछ

फूलों से तुम हँसना सीखो भाई। कलियों से सीखो मुस्कराना [...]

गजल : प्रेम की गंगा

तेरा चेहरा है मानो प्रेम की गंगा। तुमसे मिल मेरा दिल हो गया [...]

कमबख्त दिल की वेदना

दिल को तेरी हाजिरी अच्छी लगे। नजर प्यार में सिरफिरी अच्छी [...]

गजल : बादल दीवाना हो गया

धरती की बेचैनी देखी,मानसून का आना हो गया। छमछमाछम बरसा [...]

बेटियां ..एक बेटी का सपना

छू लूँगी गगन एकदिन,मत मारो मुझे कोख पावन में। फूल-सी खिलने दो [...]

कविता : रिश्ते हैँ कच्चे धागे

रिश्ते कच्चे धागे,मोल न इनका कोय। समझे तो जन्नत,न समझे तो नरक [...]

गजल : देती है मजा फिर जीत

मेरी जान ले ले चाहे प्यार की खातिर। बस एकबार मुस्करादे यार [...]