वो बच्चों के लिए खुद का निवाला छोड़ देती है — गज़ल

निर्मला कपिला

रचनाकार- निर्मला कपिला

विधा- गज़ल/गीतिका

यशोद्धा खाने को मक्खन का प्याला छोड़ देती है
न रूठे शाम, हाथों की वो माला छोड़ देती है

छठा सावन की लाती है बहारें,झूमता गुलशन
धारा पर रूप अपना वो निराला छोड़ देती है

न माँ की ममता' का कोई जहां में सानी ही होगा
वो बच्चों के लिए खुद का निवाला छोड़ देती है

सहो चाहे जमाने भर के ताने भी मगर फिर भी
कही अपनों की चुभती बात छाला छोड़ देती है

न माजी भूलने देता कभी दुखदर्द जीवन के
खलिश उनकी जिगर में रोज छाला छोड़ देती है

मशीयत पे यकीं रखना न अपनी छोडना नेकी
बला आये, तो हो इन्सान आला, छोड देती है

किये एहसां जताने का तरीका देख लो निर्मल
बडे आराम से खत मे हवाला छोड देती है

Sponsored
Views 69
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
निर्मला कपिला
Posts 71
Total Views 12.9k
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण रेडिओ विविध भरती जालन्धर से कहानी- अनन्त आकाश का प्रसारण | ब्लाग- www.veerbahuti.blogspot.in

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
5 comments
  1. सहो चाहे जमाने भर के ताने भी मगर फिर भी
    कही अपनों की चुभती बात छाला छोड़ देती है

    वाह वाहहहहहहहहहहहहहहहहहहह
    बेहद उम्दा
    अनुपम चिंतन,,,, लेखनी को नमन !!