Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2024 · 1 min read

“You are still here, despite it all. You are still fighting

“You are still here, despite it all. You are still fighting despite your broken heart, your wounds, your scars; you are still breathing, still healing, still holding on. And I am so proud of you for that. Despite all the hardships you have faced, you are still full of hope, love and kindness. Thank you. Thank you for pushing through, my love. You are so needed.”

78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उम्र पैंतालीस
उम्र पैंतालीस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कर्म का फल
कर्म का फल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
पुस्तक
पुस्तक
जगदीश लववंशी
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
Weekend
Weekend
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
"श्यामपट"
Dr. Kishan tandon kranti
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
एक दोहा दो रूप
एक दोहा दो रूप
Suryakant Dwivedi
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
जमाने में
जमाने में
manjula chauhan
पिया - मिलन
पिया - मिलन
Kanchan Khanna
*प्रीति के जो हैं धागे, न टूटें कभी (मुक्तक)*
*प्रीति के जो हैं धागे, न टूटें कभी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अगर
अगर "स्टैच्यू" कह के रोक लेते समय को ........
Atul "Krishn"
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बारिश
बारिश
Punam Pande
चुप्पी
चुप्पी
डी. के. निवातिया
बिछड़ा हो खुद से
बिछड़ा हो खुद से
Dr fauzia Naseem shad
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
*
*"मजदूर की दो जून रोटी"*
Shashi kala vyas
3101.*पूर्णिका*
3101.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■
■ "अ" से "ज्ञ" के बीच सिमटी है दुनिया की प्रत्येक भाषा। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
// प्रसन्नता //
// प्रसन्नता //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
दिव्य-दोहे
दिव्य-दोहे
Ramswaroop Dinkar
क्रोध
क्रोध
Mangilal 713
श्री गणेश का अर्थ
श्री गणेश का अर्थ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...