Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2023 · 1 min read

Tumko pane ki hasrat hi to thi ,

Tumko pane ki hasrat hi to thi ,
Tamannaye tumne bana di .
Dilo ki bagano me ek ful hi to khilana tha
Tumne meri puri kaynat saja di 😍
By sakshi

303 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोरोना का संहार
कोरोना का संहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
प्रदूषण
प्रदूषण
Pushpa Tiwari
फ़ितरत
फ़ितरत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
अंधेरे आते हैं. . . .
अंधेरे आते हैं. . . .
sushil sarna
घर
घर
Slok maurya "umang"
रमेशराज के दस हाइकु गीत
रमेशराज के दस हाइकु गीत
कवि रमेशराज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
आर.एस. 'प्रीतम'
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
■ जय हो।
■ जय हो।
*प्रणय प्रभात*
ड़ माने कुछ नहीं
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
"मानद उपाधि"
Dr. Kishan tandon kranti
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
पूर्वार्थ
कुछ भी नहीं हमको फायदा, तुमको अगर हम पा भी ले
कुछ भी नहीं हमको फायदा, तुमको अगर हम पा भी ले
gurudeenverma198
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
Atul "Krishn"
*Fruits of Karma*
*Fruits of Karma*
Poonam Matia
3097.*पूर्णिका*
3097.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
जीवन मे
जीवन मे
Dr fauzia Naseem shad
धनवान -: माँ और मिट्टी
धनवान -: माँ और मिट्टी
Surya Barman
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
Ravi Prakash
*जीवन्त*
*जीवन्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आजकल
आजकल
Munish Bhatia
Loading...