Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2023 · 1 min read

Touch the Earth,

Touch the Earth,
when,
You want to touch the sky.
Sit near the hearth,
when,
You want to fly high.

Dhriti

1 Like · 573 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dhriti Mishra
View all
You may also like:
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
Harminder Kaur
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
पूर्वार्थ
सफ़र ए जिंदगी
सफ़र ए जिंदगी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नित  हर्ष  रहे   उत्कर्ष  रहे,   कर  कंचनमय  थाल  रहे ।
नित हर्ष रहे उत्कर्ष रहे, कर कंचनमय थाल रहे ।
Ashok deep
जो लिखा है
जो लिखा है
Dr fauzia Naseem shad
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
Shweta Soni
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
चलो कुछ दूर तलक चलते हैं
चलो कुछ दूर तलक चलते हैं
Bodhisatva kastooriya
सीख गांव की
सीख गांव की
Mangilal 713
"" *माँ की ममता* ""
सुनीलानंद महंत
विदाई
विदाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
डी. के. निवातिया
माता- पिता
माता- पिता
Dr Archana Gupta
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
23/46.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/46.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बे-ख़ुद
बे-ख़ुद
Shyam Sundar Subramanian
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
"करिए ऐसे वार"
Dr. Kishan tandon kranti
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
Dr. Vaishali Verma
तुम्हें संसार में लाने के लिए एक नारी को,
तुम्हें संसार में लाने के लिए एक नारी को,
शेखर सिंह
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
Dr. Kishan Karigar
😢
😢
*Author प्रणय प्रभात*
बदल गए तुम
बदल गए तुम
Kumar Anu Ojha
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
तन्हाई
तन्हाई
Rajni kapoor
Loading...