Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2023 · 1 min read

The unknown road.

The unknown road, where I am upon,
Gradually, the shining sun has gone.
The tree lines on both sides and the dusk make it serene and lone,
I pause here for a while and craft a moment all my own.
October is at its zenith, and the leaves are raining along,
Releasing a part of self, I can’t believe trees are so strong.
The sorrowful branches are interlocked with each other,
Seems like they are bidding goodbye to the summer.
Captivated by this silence, my heart breathes only your name,
Hoping for a miracle that I open my eyes and you’ll step into this frame.
A butterfly softly kisses my shoulder and calms my thoughts, taming my inner flame,
It’s so hard to control your love; it runs in my veins like cocaine.
The tender wind reminds me that it’s not the time to vanish in the pain,
I must complete this journey, along this country road to my domain.

1 Like · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
मेरा दुश्मन मेरा मन
मेरा दुश्मन मेरा मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
💐प्रेम कौतुक-256💐
💐प्रेम कौतुक-256💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
Paras Nath Jha
ॐ
Prakash Chandra
बेशर्मी के हौसले
बेशर्मी के हौसले
RAMESH SHARMA
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
होली के रंग
होली के रंग
Anju ( Ojhal )
संवेदना की आस
संवेदना की आस
Ritu Asooja
■ विकृत परिदृश्य...
■ विकृत परिदृश्य...
*Author प्रणय प्रभात*
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
Priya princess panwar
ख़ुद से हमको
ख़ुद से हमको
Dr fauzia Naseem shad
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तू बस झूम…
तू बस झूम…
Rekha Drolia
मुस्कुरायें तो
मुस्कुरायें तो
sushil sarna
*उलझनें हर रोज आएँगी डराने के लिए【 मुक्तक】*
*उलझनें हर रोज आएँगी डराने के लिए【 मुक्तक】*
Ravi Prakash
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेरी सख़्तियों के पीछे
तेरी सख़्तियों के पीछे
ruby kumari
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
Sanjay ' शून्य'
परोपकार
परोपकार
Neeraj Agarwal
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
Subhash Singhai
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
पत्र
पत्र
लक्ष्मी सिंह
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
"बहुत है"
Dr. Kishan tandon kranti
VISHAL
VISHAL
Vishal Prajapati
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
Shweta Soni
प्यासा पानी जानता,.
प्यासा पानी जानता,.
Vijay kumar Pandey
Loading...