Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

“The Power of Orange”

I was wandering in the core of darkness and unable to see anything,
I had no reason to be there, but my shattered soul raced and took wing.
Life had been proven unkind, and its scars were plainly seen,
The pain was terrible, always there on the screen.
I was about to finally give up when a tiny sparkle did ignite,
Gradually, it started to burn profusely and came to my rescue like a knight.
The darkness became my habit, so it seemed hard for my eyes to accept this change,
But the warmth soothed my anxiety, and I felt protected in the color orange.
Strength started to well up, and confidence took a triumphant flight,
The ditch where people thought I was being buried gave me a new height.
Someone inquired, ‘You exude such strength, what is the source of your newfound might?’
My inner self grinned and replied, ‘I conquered the widest expanse of my fears in the darkest night.

160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
निर्णय लेने में
निर्णय लेने में
Dr fauzia Naseem shad
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
कैसे कह दें?
कैसे कह दें?
Dr. Kishan tandon kranti
एक सन्त: श्रीगुरु तेग बहादुर
एक सन्त: श्रीगुरु तेग बहादुर
Satish Srijan
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
दुष्यन्त 'बाबा'
2665.*पूर्णिका*
2665.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
कलरव में कोलाहल क्यों है?
कलरव में कोलाहल क्यों है?
Suryakant Dwivedi
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
Vishal babu (vishu)
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
*अब कब चंदा दूर, गर्व है इसरो अपना(कुंडलिया)*
*अब कब चंदा दूर, गर्व है इसरो अपना(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
Neeraj Agarwal
प्रेम प्रतीक्षा करता है..
प्रेम प्रतीक्षा करता है..
Rashmi Sanjay
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
Dr Archana Gupta
मन
मन
Punam Pande
"वक्त की औकात"
Ekta chitrangini
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
Sandeep Kumar
কি?
কি?
Otteri Selvakumar
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
जामुनी दोहा एकादश
जामुनी दोहा एकादश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
Dr. Mulla Adam Ali
फेसबुक
फेसबुक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...