Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

The Earth Moves

The Earth is moving,
Moving around the Sun,
Round! Round! Round!
It’s not making the sound.

The Earth is inclined,
Spinning its own pinpoint,
Spin ! Spin! Spin!
Day and night its creat.

Written by-
Buddha Prakash,
Maudaha Hamirpur(U.P.)

Language: English
1 Like · 118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Buddha Prakash

You may also like:
कविता
कविता
Shyam Pandey
इश्क  के बीज बचपन जो बोए सनम।
इश्क के बीज बचपन जो बोए सनम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बिना तुम्हारे
बिना तुम्हारे
Shyam Sundar Subramanian
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
गर्जन में है क्या धरा ,गर्जन करना व्यर्थ (कुंडलिया)
गर्जन में है क्या धरा ,गर्जन करना व्यर्थ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
Er.Navaneet R Shandily
दूर मजदूर
दूर मजदूर
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
# महुआ के फूल ......
# महुआ के फूल ......
Chinta netam " मन "
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
Kanchan Khanna
"हर सुबह कुछ कहती है"
Dr. Kishan tandon kranti
Who is the boss
Who is the boss
AJAY AMITABH SUMAN
● रूम-पार्टनर
● रूम-पार्टनर
*Author प्रणय प्रभात*
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
तरुण सिंह पवार
💐प्रेम कौतुक-282💐
💐प्रेम कौतुक-282💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारत का संविधान
भारत का संविधान
Shekhar Chandra Mitra
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रेम
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mayank Kumar
आँखें
आँखें
लक्ष्मी सिंह
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
कहाँ छूते है कभी आसमाँ को अपने हाथ
कहाँ छूते है कभी आसमाँ को अपने हाथ
'अशांत' शेखर
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
"हर दिन कुछ नया सीखें ,
Mukul Koushik
दुर्गा माँ
दुर्गा माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
धुएं से धुआं हुई हैं अब जिंदगी
धुएं से धुआं हुई हैं अब जिंदगी
Ram Krishan Rastogi
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
Satish Srijan
Loading...