Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

“Teri kaamyaabi par tareef, tere koshish par taana hoga,

” Ho Teri kaamyaabi par tareef, tere koshish par taana hoga,

Tere dukh Mai kuch log Honge , sukh Mai Zamana hoga.”

Deepak saral

Language: Hindi
2 Likes · 378 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्ति मिली सारंग से,
मुक्ति मिली सारंग से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गांव
गांव
Bodhisatva kastooriya
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#ऐसे_समझिए…
#ऐसे_समझिए…
*प्रणय प्रभात*
मीठी नींद नहीं सोना
मीठी नींद नहीं सोना
Dr. Meenakshi Sharma
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
साहित्य गौरव
"रहबर"
Dr. Kishan tandon kranti
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
किसी भी देश या राज्य के मुख्या को सदैव जनहितकारी और जनकल्याण
किसी भी देश या राज्य के मुख्या को सदैव जनहितकारी और जनकल्याण
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
अंतस का तम मिट जाए
अंतस का तम मिट जाए
Shweta Soni
कोहली किंग
कोहली किंग
पूर्वार्थ
3529.🌷 *पूर्णिका*🌷
3529.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
कामना के प्रिज़्म
कामना के प्रिज़्म
Davina Amar Thakral
" नेतृत्व के लिए उम्र बड़ी नहीं, बल्कि सोच बड़ी होनी चाहिए"
नेताम आर सी
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
VINOD CHAUHAN
मां को नहीं देखा
मां को नहीं देखा
Suryakant Dwivedi
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
मैं भी कवि
मैं भी कवि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*नींद आँखों में  ख़ास आती नहीं*
*नींद आँखों में ख़ास आती नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
संसार में
संसार में
Brijpal Singh
खुल के सच को अगर कहा जाए
खुल के सच को अगर कहा जाए
Dr fauzia Naseem shad
अश'आर हैं तेरे।
अश'आर हैं तेरे।
Neelam Sharma
बीते कल की क्या कहें,
बीते कल की क्या कहें,
sushil sarna
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
*ए फॉर एप्पल (लघुकथा)*
*ए फॉर एप्पल (लघुकथा)*
Ravi Prakash
गुजरा वक्त।
गुजरा वक्त।
Taj Mohammad
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
ऋचा पाठक पंत
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...