Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2023 · 1 min read

Sometimes he looks me

Sometimes he looks me
And few moments later
He started stare at me .
Sometimes he cares for me
And at next second ,
He become confuse to be with me.
Sometimes he leave a piece
In my mind , with his essence .
Few moments later, he takes away
My own stairs.

272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समरथ को नही दोष गोसाई
समरथ को नही दोष गोसाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्त्री जब
स्त्री जब
Rachana
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
राजस्थानी भाषा में
राजस्थानी भाषा में
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
नींदों में जिसको
नींदों में जिसको
Dr fauzia Naseem shad
मन के द्वीप
मन के द्वीप
Dr.Archannaa Mishraa
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Awadhesh Singh
2830. *पूर्णिका*
2830. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
राष्ट्रशांति
राष्ट्रशांति
Neeraj Agarwal
चंदा का अर्थशास्त्र
चंदा का अर्थशास्त्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
भरत कुमार सोलंकी
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
The Sound of Silence
The Sound of Silence
पूर्वार्थ
आखिरी दिन होगा वो
आखिरी दिन होगा वो
shabina. Naaz
"शब्दों का सफ़र"
Dr. Kishan tandon kranti
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
*महाराजा अग्रसेन और महात्मा गॉंधी (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
रूठ जा..... ये हक है तेरा
रूठ जा..... ये हक है तेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम पतझड़ सावन पिया,
तुम पतझड़ सावन पिया,
लक्ष्मी सिंह
तन्हाईयां सुकून देंगी तुम मिज़ाज बिंदास रखना,
तन्हाईयां सुकून देंगी तुम मिज़ाज बिंदास रखना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
Manju sagar
विचार और रस [ एक ]
विचार और रस [ एक ]
कवि रमेशराज
I don't listen the people
I don't listen the people
VINOD CHAUHAN
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
गज़ल
गज़ल
सत्य कुमार प्रेमी
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...