Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2024 · 1 min read

Red is red

Red is red
Behaviour is not bad
Green is green
Behaviour is clean
Yellow is yellow
Behaviour is fellow
Black is black
Behaviour is select

Written by Dr. Vaishali Verma

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मरहटा छंद
मरहटा छंद
Subhash Singhai
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
Dr Shweta sood
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
हर गम दिल में समा गया है।
हर गम दिल में समा गया है।
Taj Mohammad
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कई खयालों में...!
कई खयालों में...!
singh kunwar sarvendra vikram
पगली
पगली
Kanchan Khanna
मैं स्त्री हूं भारत की।
मैं स्त्री हूं भारत की।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सेल्फी जेनेरेशन
सेल्फी जेनेरेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
Utkarsh Dubey “Kokil”
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
कवि रमेशराज
आंखों देखा सच
आंखों देखा सच
Shekhar Chandra Mitra
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
लक्ष्मी सिंह
.
.
*Author प्रणय प्रभात*
इसके जैसा
इसके जैसा
Dr fauzia Naseem shad
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
Anju ( Ojhal )
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*विभीषण (कुंडलिया)*
*विभीषण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3045.*पूर्णिका*
3045.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
मन मेरा मेरे पास नहीं
मन मेरा मेरे पास नहीं
Pratibha Pandey
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Loading...