Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2023 · 1 min read

Raat gai..

Raat gai..
Baat gai..
Nahi bro
Raat hote hi
Baat yaad aati h

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐Prodigy Love-21💐
💐Prodigy Love-21💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2299.पूर्णिका
2299.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
कहानी :#सम्मान
कहानी :#सम्मान
Usha Sharma
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
Seema Verma
आदिम परंपराएं
आदिम परंपराएं
Shekhar Chandra Mitra
*बाण जरूरी है 【मुक्तक】*
*बाण जरूरी है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
हज़ारों रंग बदलो तुम
हज़ारों रंग बदलो तुम
shabina. Naaz
जो हर पल याद आएगा
जो हर पल याद आएगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
Vishal babu (vishu)
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नारी उर को
नारी उर को
Satish Srijan
उम्र का लिहाज
उम्र का लिहाज
Vijay kannauje
ख़ुद अपने नूर से रौशन है आज की औरत
ख़ुद अपने नूर से रौशन है आज की औरत
Anis Shah
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
Shashi kala vyas
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लिव-इन रिलेशनशिप
लिव-इन रिलेशनशिप
लक्ष्मी सिंह
నమో సూర్య దేవా
నమో సూర్య దేవా
विजय कुमार 'विजय'
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
अधूरे ख्वाब
अधूरे ख्वाब
रोहताश वर्मा मुसाफिर
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…
Anand Kumar
रंग हरा सावन का
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Sakshi Tripathi
जो महा-मनीषी मुझे
जो महा-मनीषी मुझे
*Author प्रणय प्रभात*
हमें उम्र ने नहीं हालात ने बड़ा किया है।
हमें उम्र ने नहीं हालात ने बड़ा किया है।
Kavi Devendra Sharma
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
Surinder blackpen
एक प्रयास अपने लिए भी
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...