Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

pita

समय रहते पिता की बात जो मान जाते हैं
वही शख्स जीवन की हर मंजिल को पाते है
भटक जाते जो सोचकर मुझसा नहीं कोई
वो अक्सर राह में जाकर भी राहें भूल जाते हैं

Language: Hindi
1 Like · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
शहर
शहर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रास्ते
रास्ते
Ritu Asooja
ड़ माने कुछ नहीं
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
कोई बात नहीं, अभी भी है बुरे
gurudeenverma198
3191.*पूर्णिका*
3191.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिन्दी पर हाइकू .....
हिन्दी पर हाइकू .....
sushil sarna
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
Neelam Sharma
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
आत्मनिर्भर नारी
आत्मनिर्भर नारी
Anamika Tiwari 'annpurna '
..........जिंदगी.........
..........जिंदगी.........
Surya Barman
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
Yogendra Chaturwedi
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
Dushyant Kumar
नाम परिवर्तन
नाम परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
हिंदी की दुर्दशा
हिंदी की दुर्दशा
Madhavi Srivastava
Life isn't all about dating. Focus on achieving your goals a
Life isn't all about dating. Focus on achieving your goals a
पूर्वार्थ
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
Sonit Parjapati
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
నా గ్రామం
నా గ్రామం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कहा किसी ने
कहा किसी ने
Surinder blackpen
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
समन्दर से भी गहरी
समन्दर से भी गहरी
हिमांशु Kulshrestha
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
कवि रमेशराज
हर रोज याद आऊं,
हर रोज याद आऊं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
राखी सांवन्त
राखी सांवन्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नए साल की नई सुबह पर,
नए साल की नई सुबह पर,
Anamika Singh
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...