Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐Prodigy Love-15💐

Oh Dear!
My heart is leaping.
Sometimes it is weeping.
Your message give me joyful sleeping.
Oh Dear!
I have seen you in wind.
You were so kind.
My heart became bind.
Oh dear!
You are looking so shiny.
Your eyes are so winy.
My heart is innocent and tiny.
Please look with your modest insight.
On me.
Oh Dear!
©®Abhishek Parashar “Aanand”

Language: Hindi
275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निरंतर खूब चलना है
निरंतर खूब चलना है
surenderpal vaidya
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
Ashwini sharma
*रेल हादसा*
*रेल हादसा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक पते की बात
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
पोथी- पुस्तक
पोथी- पुस्तक
Dr Nisha nandini Bhartiya
जिनके पास
जिनके पास
*Author प्रणय प्रभात*
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
Manisha Manjari
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
डॉ.सीमा अग्रवाल
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-558💐
💐प्रेम कौतुक-558💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – आविर्भाव का समय – 02
Kirti Aphale
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
Neelam Sharma
2851.*पूर्णिका*
2851.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
Buddha Prakash
बातों - बातों में छिड़ी,
बातों - बातों में छिड़ी,
sushil sarna
रख धैर्य, हृदय पाषाण  करो।
रख धैर्य, हृदय पाषाण करो।
अभिनव अदम्य
आहत बता गयी जमीर
आहत बता गयी जमीर
भरत कुमार सोलंकी
"कुछ लोग हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
होली के रंग
होली के रंग
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
कवि रमेशराज
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
दंगे-फसाद
दंगे-फसाद
Shekhar Chandra Mitra
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
कुछ टूट गया
कुछ टूट गया
Dr fauzia Naseem shad
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
gurudeenverma198
पिता पर एक गजल लिखने का प्रयास
पिता पर एक गजल लिखने का प्रयास
Ram Krishan Rastogi
Loading...