Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2023 · 1 min read

💐Prodigy Love-35💐

Oh Dear!
It’s invetible.
our true love has ended all the thresholds.
Even,we have never met.
However,we keep meeting
It is not wondering subject.
We have stopped with our faith.
We are reading our fathom.
We are reading our spirituality.
We are reading our sprit.
If anyone touches us.
Even so,this one can’t touch us.
We have scared heart and mind.
In which,God is in the form of Love.
Nothing must happen.Wait.
God, really, shall listen us.
And when,God will not listen.
Even so,we shall of God.
We can’t refrain from God.
God is master of all existent.
Let remember God.
Oh Dear!
©® Abhishek Parashar “Aanand”

56 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
व्हाट्सएप के दोस्त
व्हाट्सएप के दोस्त
DrLakshman Jha Parimal
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सजन के संग होली में, खिलें सब रंग होली में।
सजन के संग होली में, खिलें सब रंग होली में।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ठहराव नहीं अच्छा
ठहराव नहीं अच्छा
Dr. Meenakshi Sharma
दस्तूर
दस्तूर
Dr. Rajiv
पुलवामा की याद (कुंडलिया)
पुलवामा की याद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
The waves are dying at the shore.
The waves are dying at the shore.
Manisha Manjari
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
" एक बार फिर से तूं आजा "
Aarti sirsat
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
बाईस फरवरी बाइस।
बाईस फरवरी बाइस।
Satish Srijan
करके कोई साजिश गिराने के लिए आया
करके कोई साजिश गिराने के लिए आया
कवि दीपक बवेजा
Rose Day 7 Feb 23
Rose Day 7 Feb 23
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पल भर में बदल जाए
पल भर में बदल जाए
Dr fauzia Naseem shad
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
निज स्वार्थ ही शत्रु है, निज स्वार्थ ही मित्र।
निज स्वार्थ ही शत्रु है, निज स्वार्थ ही मित्र।
श्याम सरीखे
तुम याद आ रहे हो।
तुम याद आ रहे हो।
Taj Mohammad
युग बीते और आज भी ,
युग बीते और आज भी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
थोड़ी दुश्वारियां ही भली, या रब मेरे,
थोड़ी दुश्वारियां ही भली, या रब मेरे,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खूबसूरत है दुनियां _ आनंद इसका लेना है।
खूबसूरत है दुनियां _ आनंद इसका लेना है।
Rajesh vyas
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
कहीं भी जाइए
कहीं भी जाइए
Ranjana Verma
💐प्रेम कौतुक-532💐
💐प्रेम कौतुक-532💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Chubhti hai bate es jamane ki
Chubhti hai bate es jamane ki
Sadhna Ojha
अंजीर बर्फी
अंजीर बर्फी
Ms.Ankit Halke jha
Li Be B
Li Be B
Ankita Patel
करम
करम
Fuzail Sardhanvi
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...