Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

💐Prodigy Love-24💐

Oh Dear!
No narrative is possible without you.
Life has become labyrinth.
And You are on the last verge of it.
Then, my visit in it,becomes easy.
Because,You knowingly,leave pearl from your bracelet.
Some pearls are black,white, and green.
All pearls have spreaded over the way.
They are calling you for me.
I am slowly reaching towards you.
After choosing all the pearls.
I will give all these pearls to you again.
All pearls are happy.
Because they again, certainly, glued with bracelet.
These pearls are songs of life.
And you are embleme of life.
When songs are sung.
Your heart has become tender.
You are listening for us.
Thanks.The helm of this love.
You have caught the helm of this true love.
Keep it.This will make our love sublime.
Oh Dear,oh Dear.

©® Abhishek Parashar “Aanand”

Language: Hindi
66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
Arvind trivedi
मातु भवानी
मातु भवानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Life
Life
C.K. Soni
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सहजता
सहजता
Sanjay
डरने लगता हूँ...
डरने लगता हूँ...
Aadarsh Dubey
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
गाथा हिन्दी की
गाथा हिन्दी की
तरुण सिंह पवार
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
💐प्रेम कौतुक-374💐
💐प्रेम कौतुक-374💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आसमां पर घर बनाया है किसी ने।
आसमां पर घर बनाया है किसी ने।
डॉ.सीमा अग्रवाल
युँ ही नहीं जिंदगी हर लम्हा अंदर से तोड़ रही,
युँ ही नहीं जिंदगी हर लम्हा अंदर से तोड़ रही,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जान का नया बवाल
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
Satish Srijan
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
कुछ नमी
कुछ नमी
Dr fauzia Naseem shad
मात पिता
मात पिता
विजय कुमार अग्रवाल
वही खुला आँगन चाहिए
वही खुला आँगन चाहिए
जगदीश लववंशी
संघर्ष
संघर्ष
Sushil chauhan
कच्ची उम्र के बच्चों तुम इश्क में मत पड़ना
कच्ची उम्र के बच्चों तुम इश्क में मत पड़ना
कवि दीपक बवेजा
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
जिंदगी है एक सफर,,
जिंदगी है एक सफर,,
Taj Mohammad
लगता है आवारगी जाने लगी है अब,
लगता है आवारगी जाने लगी है अब,
Deepesh सहल
देश के खातिर दिया जिन्होंने, अपना बलिदान
देश के खातिर दिया जिन्होंने, अपना बलिदान
gurudeenverma198
Re: !! तेरी ये आंखें !!
Re: !! तेरी ये आंखें !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
Yashmehra
Yashmehra
Yash mehra
मंतर मैं पढ़ूॅंगा
मंतर मैं पढ़ूॅंगा
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
■ चौराहे पर जीवन
■ चौराहे पर जीवन
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...