Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2023 · 1 min read

Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass

Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet passed my happiest days; that life didn’t give it in one package without me noticing that that was it. I pray my happiness comes in littlest of efforts, and smallest of reasons for every single day that I’ll be living here. I rather have it in pieces so it could last long, than to just own it in a day and just be sad for too long.

219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राहें भी होगी यूं ही,
राहें भी होगी यूं ही,
Satish Srijan
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
Jyoti Khari
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
2619.पूर्णिका
2619.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
हमें लिखनी थी एक कविता
हमें लिखनी थी एक कविता
shabina. Naaz
विश्वास किसी पर इतना करो
विश्वास किसी पर इतना करो
नेताम आर सी
"मां बनी मम्मी"
पंकज कुमार कर्ण
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
AJAY AMITABH SUMAN
"कौन हूँ मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
भोले
भोले
manjula chauhan
छूटा उसका हाथ
छूटा उसका हाथ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
*करते हैं प्रभु भक्त पर, निज उपकार अनंत (कुंडलिया)*
*करते हैं प्रभु भक्त पर, निज उपकार अनंत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बनारस
बनारस
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
खवाब
खवाब
Swami Ganganiya
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-535💐
💐प्रेम कौतुक-535💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
घटा घनघोर छाई है...
घटा घनघोर छाई है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
sushil sarna
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...