Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

*Nabi* के नवासे की सहादत पर

Nabi के नवासे की सहादत पर
कुछ लोग मुहर्रम के दिन अपने आप को नबी के दिवाने और हुसैन के सहाद्त पर उनके कातिलों को कतल करना चाहेंगे। नाच बाजा बजाकर अस्तगफीरुल्लाह😔
जिनके पैदाइस और शादी के दिन नाच बजा नहीं हुआ उनके सहादत के दिन बजा बजाएंगे 🥺
कैसा लगेगा जब आपके घर में किसी की मौत हुई हो और आपका पड़ोसी या आपके घर वाले बाजा बजाएंगे🤔
इस्लाम शांति का संदेस देता है न की नफरत का।

अगर आप ये सोचते है कि आपके जुलुस से वो लोग डर जायेंगे से तो याद रखिए गा जंगे कादसिया में एक सुन्नत ( मिस्वाक ) को छोड़ देने से हमारे सहाबा, मुखालिफों से जंग हारने लगे थे। आप तो नाच बाजा बजाते है।

अगर आप नबी के सच्चे दिवाने और उनके नवासों से मोहब्बत रखते है तो तौबा व इस्तीगफार कीजिए और मुहर्रम के जुलूस का boycott कीजिए।

395 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
*वक्त की दहलीज*
*वक्त की दहलीज*
Harminder Kaur
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
Anand Kumar
दिल कि गली
दिल कि गली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
Ranjeet kumar patre
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
आर.एस. 'प्रीतम'
'मजदूर'
'मजदूर'
Godambari Negi
Radiance
Radiance
Dhriti Mishra
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
प्यार तो हम में और हमारे चारों ओर होना चाहिए।।
प्यार तो हम में और हमारे चारों ओर होना चाहिए।।
शेखर सिंह
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ख़ुद को हमारी नज़रों में तलाशते हैं,
ख़ुद को हमारी नज़रों में तलाशते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
दरोगा तेरा पेट
दरोगा तेरा पेट
Satish Srijan
" शिक्षक "
Pushpraj Anant
2498.पूर्णिका
2498.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
Kanchan Khanna
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
sushil sarna
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
*धरती के सागर चरण, गिरि हैं शीश समान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
Aadarsh Dubey
कबीर: एक नाकाम पैगंबर
कबीर: एक नाकाम पैगंबर
Shekhar Chandra Mitra
कालः  परिवर्तनीय:
कालः परिवर्तनीय:
Bhupendra Rawat
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
खुद पर यकीन,
खुद पर यकीन,
manjula chauhan
Loading...