Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

Mukkadar bhi kya chij h,

Mukkadar bhi kya chij h,
Jaha umid hai whi taklif h.
Gher ke baitha h koi sare khushi ke badal,
Gam ke samandar , hmare nasib h .

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
~~बस यूँ ही~~
~~बस यूँ ही~~
Dr Manju Saini
शरीक-ए-ग़म
शरीक-ए-ग़म
Shyam Sundar Subramanian
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
लक्ष्मी सिंह
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन का  स्वर्ण काल : साठ वर्ष की आयु
जीवन का स्वर्ण काल : साठ वर्ष की आयु
Ravi Prakash
युद्ध नहीं जिनके जीवन में,
युद्ध नहीं जिनके जीवन में,
Sandeep Mishra
देती है सबक़ ऐसे
देती है सबक़ ऐसे
Dr fauzia Naseem shad
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
Vishal babu (vishu)
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
छद्म शत्रु
छद्म शत्रु
Arti Bhadauria
2263.
2263.
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-118💐
💐अज्ञात के प्रति-118💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"Teri kaamyaabi par tareef, tere koshish par taana hoga,
कवि दीपक बवेजा
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्रेम की राख
प्रेम की राख
Buddha Prakash
मुझे न कुछ कहना है
मुझे न कुछ कहना है
प्रेमदास वसु सुरेखा
उम्मीद नहीं थी
उम्मीद नहीं थी
Surinder blackpen
गौरी।
गौरी।
Acharya Rama Nand Mandal
"स्कूल चलो अभियान"
Dushyant Kumar
प्रेम जोगन मीरा
प्रेम जोगन मीरा
Shekhar Chandra Mitra
[28/03, 17:02] Dr.Rambali Mishra: *पाप का घड़ा फूटता है (दोह
[28/03, 17:02] Dr.Rambali Mishra: *पाप का घड़ा फूटता है (दोह
Rambali Mishra
स्वार्थ
स्वार्थ
Sushil chauhan
#मंगलकांनाएँ
#मंगलकांनाएँ
*Author प्रणय प्रभात*
#बाल-कविता- मेरा प्यारा मित्र
#बाल-कविता- मेरा प्यारा मित्र
आर.एस. 'प्रीतम'
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
तिरंगा
तिरंगा
Satish Srijan
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...