Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

Mera wajud bus itna hai ,

Mera wajud bus itna hai ,
Ki apni sari wajihat ,
Maine khamoshi par ,
Kurban kardi

191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसान
इंसान
Vandna thakur
कब तक कौन रहेगा साथी
कब तक कौन रहेगा साथी
Ramswaroop Dinkar
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
Jatashankar Prajapati
गर्म स्वेटर
गर्म स्वेटर
Awadhesh Singh
*तू भी जनता मैं भी जनता*
*तू भी जनता मैं भी जनता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख़ुदा करे ये क़यामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
ख़ुदा करे ये क़यामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
Bhupendra Rawat
💐💞💐
💐💞💐
शेखर सिंह
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
Neeraj Agarwal
कहने को आज है एक मई,
कहने को आज है एक मई,
Satish Srijan
Life is too short to admire,
Life is too short to admire,
Sakshi Tripathi
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
■ कैसे भी पढ़ लो...
■ कैसे भी पढ़ लो...
*Author प्रणय प्रभात*
चंदन माँ पन्ना की कल्पनाएँ
चंदन माँ पन्ना की कल्पनाएँ
Anil chobisa
खुद को संभाल
खुद को संभाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सुनले पुकार मैया
सुनले पुकार मैया
Basant Bhagawan Roy
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
पिछले पन्ने 9
पिछले पन्ने 9
Paras Nath Jha
# कुछ देर तो ठहर जाओ
# कुछ देर तो ठहर जाओ
Koमल कुmari
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
सदा दूर रहो गम की परछाइयों से,
सदा दूर रहो गम की परछाइयों से,
Ranjeet kumar patre
*उड़न-खटोले की तरह, चला चंद्रमा-यान (कुंडलिया)*
*उड़न-खटोले की तरह, चला चंद्रमा-यान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जल बचाओ, ना बहाओ।
जल बचाओ, ना बहाओ।
Buddha Prakash
ख़ामोश सा शहर
ख़ामोश सा शहर
हिमांशु Kulshrestha
Loading...