Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

May 3, 2024

May 3, 2024

विषय यादें
शीर्षक हाय अल्ला
लेखक डॉ अरूण कुमार शास्त्री
भाषा हिंदी
विधा ओपन

यादें हो तो दुखी न हो तो भी दुखी ।
यादों का पिटारा लिए डोलें यहां सभी ।
कोई सुख की कोई दुख की
कोई कोई तो खाली पीली ।

ढोल पीटता अपने अपनो का ही ।
कुछ मतलब की कुछ बे मतलब की ।
लेकिन यादें बीते पल की और भविष्य की
इनके बीच में यदा कदा आज और अभी की

तुम भी दो योगदान अपना इन यादों में
तुम भी तो हो मेरे जीवन का हिस्सा
भूल पाना ना मुमकिन ये बात और है
वर्तमान में साथ रखना मुश्किल

लेकिन प्रिय हो अभिन्न अंश मेरे अतीत का
तुम ही तो हो सुखद स्पर्श मेरे प्रतीक का
तुम थी तो जी लिया वो सूने एहसास
था जब निपट अकेला एय सखी एक दम बिंदास

यादें हो तो दुखी न हो तो भी दुखी ।
यादों का पिटारा लिए डोलें यहां सभी ।
कोई सुख की कोई दुख की
कोई कोई तो खाली पीली ।

1 Like · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
If you want to be in my life, I have to give you two news...
If you want to be in my life, I have to give you two news...
पूर्वार्थ
उसका आना
उसका आना
हिमांशु Kulshrestha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वफ़ा के बदले हमें वफ़ा न मिला
वफ़ा के बदले हमें वफ़ा न मिला
Keshav kishor Kumar
झुकता आसमां
झुकता आसमां
शेखर सिंह
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मन तेरा भी
मन तेरा भी
Dr fauzia Naseem shad
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
3384⚘ *पूर्णिका* ⚘
3384⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
Pratibha Pandey
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
दीवाना - सा लगता है
दीवाना - सा लगता है
Madhuyanka Raj
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
- अपनो का स्वार्थीपन -
- अपनो का स्वार्थीपन -
bharat gehlot
सत्य यह भी
सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"डूबना"
Dr. Kishan tandon kranti
summer as festival*
summer as festival*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
खोया हुआ वक़्त
खोया हुआ वक़्त
Sidhartha Mishra
लोग कहते हैं कि
लोग कहते हैं कि
VINOD CHAUHAN
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
*The Bus Stop*
*The Bus Stop*
Poonam Matia
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
कवि रमेशराज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Miss you Abbu,,,,,,
Miss you Abbu,,,,,,
Neelofar Khan
Loading...