Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2021 · 1 min read

Life’s beautiful moment

When you live some moment,
Why not spend your time in present,
Make your face have smile,
Smile please! smile please!

When you have friends and family ,
Why not together enjoy that time,
Capture the moment in deep memory inside,
Smile please ! smile please!

When you are free from busy life,
Why not forget that worry in flowing time,
Let the lovely events come in the life,
Smile please! smile please!

When the happiness seems around ,
Why not you share own happy moment,
Describe the life’s beautiful moment
which arrives,
Smile please! smile please!

Written by-
******Buddha Prakash,
***Maudaha, Hamirpur (U.P.)

Language: English
Tag: Poem
2 Likes · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
मुझे महसूस हो जाते
मुझे महसूस हो जाते
Dr fauzia Naseem shad
अनेक मौसम
अनेक मौसम
Seema gupta,Alwar
💐अज्ञात के प्रति-83💐
💐अज्ञात के प्रति-83💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन
स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खरी - खरी
खरी - खरी
Mamta Singh Devaa
अंदाज़-ऐ बयां
अंदाज़-ऐ बयां
अखिलेश 'अखिल'
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
Ranjeet kumar patre
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
कल चमन था
कल चमन था
Neelam Sharma
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
🙅इस साल🙅
🙅इस साल🙅
*Author प्रणय प्रभात*
जज़्बात-ए-दिल
जज़्बात-ए-दिल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
Shweta Soni
धन बल पर्याय
धन बल पर्याय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
हिमांशु Kulshrestha
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
महक कहां बचती है
महक कहां बचती है
Surinder blackpen
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
चले ससुराल पँहुचे हवालात
चले ससुराल पँहुचे हवालात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
-- अंतिम यात्रा --
-- अंतिम यात्रा --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
Loading...