Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2023 · 1 min read

Khahisho ki kashti me savar hokar ,

Khahisho ki kashti me savar hokar ,
Khuch dur chali hi thi mai,
Ki ghanghor ghatao ka drishya mere ashko
Se ja mila.
Nile nile badalo ki sajawat me bahti hawaye
Uski dasi bani hui thi.
Charo taraf khula asasman aur bichh mazdhar
Me fasi meri masumiyat ke bich jung chal rha tha.
Jitne ka manjar kisko dekhna tha ,
Humne to har hi gale me pahan liya jab kamiyabi ki paarikashtha chumakiya shakti mujhe apne taraf aakarshit karti ja rahi thi.
Mai khud ko badalo aur hariyali ke bich rangoli si sajj rahi thi.
Jisme mera hona bhi ek rang ki deta h kudrat ko.
To ye khud se jung kyu ?

383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ सड़ा हुआ फल ताज़ा नहीं हो सकता। बिगड़ैल सुधर नहीं सकते। जब तक
■ सड़ा हुआ फल ताज़ा नहीं हो सकता। बिगड़ैल सुधर नहीं सकते। जब तक
*Author प्रणय प्रभात*
3097.*पूर्णिका*
3097.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
आर.एस. 'प्रीतम'
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
प्रणय 8
प्रणय 8
Ankita Patel
अटल-अवलोकन
अटल-अवलोकन
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
Ekta chitrangini
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
अंतर्जाल यात्रा
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
Stop chasing people who are fine with losing you.
Stop chasing people who are fine with losing you.
पूर्वार्थ
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
कवि रमेशराज
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
Satish Srijan
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
हादसों का बस
हादसों का बस
Dr fauzia Naseem shad
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
Seema gupta,Alwar
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
Nitesh Kumar Srivastava
प्रेम ...
प्रेम ...
sushil sarna
सबला
सबला
Rajesh
*पुण्य कमाए तब मिले, पावन पिता महान (कुंडलिया)*
*पुण्य कमाए तब मिले, पावन पिता महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
The story of the two boy
The story of the two boy
DARK EVIL
तबीयत मचल गई
तबीयत मचल गई
Surinder blackpen
"अभिमान और सम्मान"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार ~ व्यापार
प्यार ~ व्यापार
The_dk_poetry
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
Shreedhar
Loading...