Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,

Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Maan ke sari reet parayi , babul ka ghr chhod kr jana hai.
Jis jhule ko apna samjha , uss dal se alag ho jana hai .
Maan ke sari reet parayi , betiya se ab bahu , bahu kahlana hai 😍.
By sakshi

488 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर रोज़ यहां से जो फेंकता है वहां तक।
हर रोज़ यहां से जो फेंकता है वहां तक।
*Author प्रणय प्रभात*
अहंकार
अहंकार
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
3192.*पूर्णिका*
3192.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
VINOD CHAUHAN
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
" है वही सुरमा इस जग में ।
Shubham Pandey (S P)
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
तेरी ख़ुशबू
तेरी ख़ुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" रे, पंछी पिंजड़ा में पछताए "
Chunnu Lal Gupta
*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*
*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अजनवी
अजनवी
Satish Srijan
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Sakshi Tripathi
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पर दारू तुम ना छोड़े
पर दारू तुम ना छोड़े
Mukesh Srivastava
कर बैठे कुछ और हम
कर बैठे कुछ और हम
Basant Bhagawan Roy
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
लेखक कौन ?
लेखक कौन ?
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
जो उसने दर्द झेला जानता है।
जो उसने दर्द झेला जानता है।
सत्य कुमार प्रेमी
"मेरी कलम से"
Dr. Kishan tandon kranti
आज बेरोजगारों की पहली सफ़ में बैठे हैं
आज बेरोजगारों की पहली सफ़ में बैठे हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Er. Sanjay Shrivastava
मात्र एक पल
मात्र एक पल
Ajay Mishra
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
Vijay kumar Pandey
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...