Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

Is ret bhari tufano me

Is ret bhari tufano me
Tum bade sunahre lgte ho
Tum badlo ki god me bhi
Dur se hi chamakte ho.
Roshan hoti duniya meri
Tujhse hi hoti mukkamal hai.

139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr Shweta sood
गुफ़्तगू खुद से करके
गुफ़्तगू खुद से करके
Dr fauzia Naseem shad
भारत का लाल
भारत का लाल
Aman Sinha
रंग भी रंगीन होते है तुम्हे छूकर
रंग भी रंगीन होते है तुम्हे छूकर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
💐प्रेम कौतुक-402💐
💐प्रेम कौतुक-402💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Sakshi Tripathi
मृदुल कीर्ति जी का गद्यकोष एव वैचारिक ऊर्जा
मृदुल कीर्ति जी का गद्यकोष एव वैचारिक ऊर्जा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुनो
सुनो
पूर्वार्थ
मसखरा कहीं सो गया
मसखरा कहीं सो गया
Satish Srijan
जीवन के मोड़
जीवन के मोड़
Ravi Prakash
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
बरसात के दिन
बरसात के दिन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
Seema gupta,Alwar
मुझे तेरी जरूरत है
मुझे तेरी जरूरत है
Basant Bhagawan Roy
From dust to diamond.
From dust to diamond.
Manisha Manjari
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
gurudeenverma198
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
कविता तुम क्या हो?
कविता तुम क्या हो?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कबीर का पैगाम
कबीर का पैगाम
Shekhar Chandra Mitra
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
आज उन असंख्य
आज उन असंख्य
*Author प्रणय प्रभात*
प्रदीप छंद और विधाएं
प्रदीप छंद और विधाएं
Subhash Singhai
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
माँ का निश्छल प्यार
माँ का निश्छल प्यार
Soni Gupta
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
Arvind trivedi
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
Loading...