Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2017 · 1 min read

II रोशनी के लिए II

जलाओ दिए,दीवाली ,दुनिया के लिए l
जिंदगी जल रही ,रोशनी के लिएll

तेल बाती जली ,तो उजाला हुआ l
मिलकर मिटे, रोशनी के लिए ll

दीप है तु ,अगर मैं ,तेरे प्राण हूं l
साथ हम तुम रहे रोशनी के लिए ll

अंधेरा धरा से हि, मिट जाएगा l
साथ में सब चलें, रोशनी के लिए ll

चांद सूरज से दुनिया ,है रोशन मगर l
रात अमावस में, जलो रोशनी के लिए ll

संजय सिंह”सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

264 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
Radhakishan R. Mundhra
दुआएं
दुआएं
Santosh Shrivastava
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
Jogendar singh
मेरे भईया
मेरे भईया
Dr fauzia Naseem shad
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जागे हैं देर तक
जागे हैं देर तक
Sampada
श्रीकृष्ण
श्रीकृष्ण
Raju Gajbhiye
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
24/239. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/239. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
🥰🥰🥰
🥰🥰🥰
शेखर सिंह
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
पूर्वार्थ
कविता -नैराश्य और मैं
कविता -नैराश्य और मैं
Dr Tabassum Jahan
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
Shashi kala vyas
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
माँ मुझे विश्राम दे
माँ मुझे विश्राम दे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"यात्रा संस्मरण"
Dr. Kishan tandon kranti
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
*अद्‌भुत है अनमोल देह, इसकी कीमत पह‌चानो(गीत)*
*अद्‌भुत है अनमोल देह, इसकी कीमत पह‌चानो(गीत)*
Ravi Prakash
आजा आजा रे कारी बदरिया
आजा आजा रे कारी बदरिया
Indu Singh
मानव पहले जान ले,तू जीवन  का सार
मानव पहले जान ले,तू जीवन का सार
Dr Archana Gupta
#गुलमोहरकेफूल
#गुलमोहरकेफूल
कार्तिक नितिन शर्मा
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
यहाँ तो सब के सब
यहाँ तो सब के सब
DrLakshman Jha Parimal
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
समय
समय
Neeraj Agarwal
Loading...