Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

II प्यार की भाषा… II

प्यार की भाषा पढ़ो फिर देखना l
नाम मेरा भी जरा लिख देखना ll

रोते बच्चों को हंसा दो है बहुत l
काबा काशी भी यही तुम देखना ll

क्या हुआ जब टूटता तारा कोई l
टूट कर बिखरा हुआ दिल देखना ll

है पता के काफिया मेरा गलत l
तोड़कर कुछ बंदिशें भी देखना ll

आती है कुछ को कलाकारी यहां l
रात को दिन आप भी कह देखना ll

छा सके जादू तेरा कैसे “सलिल”l
नींद में सपने ही तो फिर देखना ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

201 Views
You may also like:
गीत
गीत
Shiva Awasthi
Darak me paida hoti meri kalpanaye,
Darak me paida hoti meri kalpanaye,
Sakshi Tripathi
सँभल रहा हूँ
सँभल रहा हूँ
N.ksahu0007@writer
फ़ितरत
फ़ितरत
Manisha Manjari
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ दो सवाल...
■ दो सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
जाने कितने ख़त
जाने कितने ख़त
Ranjana Verma
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Ram Babu Mandal
मैं आंसू बहाता रहा,
मैं आंसू बहाता रहा,
अनिल अहिरवार"अबीर"
अंतर दीप जले ?
अंतर दीप जले ?
मनोज कर्ण
प्रणय 4
प्रणय 4
Ankita Patel
रेलगाड़ी
रेलगाड़ी
श्री रमण 'श्रीपद्'
मां बाप के प्यार जैसा  कहीं कुछ और नहीं,
मां बाप के प्यार जैसा कहीं कुछ और नहीं,
Satish Srijan
Every best can be made better as every worst can be made worse.
Every best can be made better as every worst can...
Dr Rajiv
बदलना भी जरूरी है
बदलना भी जरूरी है
Surinder blackpen
*होली*
*होली*
Shashi kala vyas
परदेशी
परदेशी
Shekhar Chandra Mitra
मेरी इबादत
मेरी इबादत
umesh mehra
जन्मदिवस का महत्व...
जन्मदिवस का महत्व...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
परिवार, प्यार, पढ़ाई का इतना टेंशन छाया है,
परिवार, प्यार, पढ़ाई का इतना टेंशन छाया है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
Suryakant Angara Kavi official
मुश्किल है बहुत
मुश्किल है बहुत
Dr fauzia Naseem shad
काश अगर तुम हमें समझ पाते
काश अगर तुम हमें समझ पाते
Writer_ermkumar
आंखों के दपर्ण में
आंखों के दपर्ण में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
✍️तर्कहीन आभासी अवास्तविक अवतारवादी कल्पनाओ के आधार पर..
✍️तर्कहीन आभासी अवास्तविक अवतारवादी कल्पनाओ के आधार पर..
'अशांत' शेखर
हर रास्ता मंजिल की ओर नहीं जाता।
हर रास्ता मंजिल की ओर नहीं जाता।
Annu Gurjar
ख़ुशियों का त्योहार मुबारक
ख़ुशियों का त्योहार मुबारक
आकाश महेशपुरी
💐अज्ञात के प्रति-103💐
💐अज्ञात के प्रति-103💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...