Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

II प्यार की भाषा… II

प्यार की भाषा पढ़ो फिर देखना l
नाम मेरा भी जरा लिख देखना ll

रोते बच्चों को हंसा दो है बहुत l
काबा काशी भी यही तुम देखना ll

क्या हुआ जब टूटता तारा कोई l
टूट कर बिखरा हुआ दिल देखना ll

है पता के काफिया मेरा गलत l
तोड़कर कुछ बंदिशें भी देखना ll

आती है कुछ को कलाकारी यहां l
रात को दिन आप भी कह देखना ll

छा सके जादू तेरा कैसे “सलिल”l
नींद में सपने ही तो फिर देखना ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाजार से सब कुछ मिल जाता है,
बाजार से सब कुछ मिल जाता है,
Shubham Pandey (S P)
आसान नहीं होता
आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
"आओ मिलकर दीप जलायें "
Chunnu Lal Gupta
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
Rj Anand Prajapati
जला दो दीपक कर दो रौशनी
जला दो दीपक कर दो रौशनी
Sandeep Kumar
मिले तो हम उनसे पहली बार
मिले तो हम उनसे पहली बार
DrLakshman Jha Parimal
मेला दिलों ❤️ का
मेला दिलों ❤️ का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
सड़क
सड़क
SHAMA PARVEEN
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
फ़ितरत का रहस्य
फ़ितरत का रहस्य
Buddha Prakash
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
निर्णय लेने में
निर्णय लेने में
Dr fauzia Naseem shad
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
न जमीन रखता हूँ न आसमान रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज की प्रस्तुति - भाग #2
आज की प्रस्तुति - भाग #2
Rajeev Dutta
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
इंसान हूं मैं आखिर ...
इंसान हूं मैं आखिर ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"मन्नत"
Dr. Kishan tandon kranti
#क़तआ
#क़तआ
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...