Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

II क्या करूं II

मैं रहा सुर ताल में ,थी भीड़ ज्यादा क्या करूं l
बे सुरों से सुर मिलाना, ही न आया क्या करूं ll

आ गया था मैं भी तेरे, दर पे मजमा देख कर l
सिर झुकाना ही न आया, पढ़ के कलमा क्या करूं ll

हो सके तो माफ कर दे, जिंदगी मेरी मुझे l
मैं निकल मजबूरियों से, चल न पाया क्या करूं ll

गैर से शिकवा न कोई, मेरे अपने भी कभी l
राह मेरी चल न पाए, आज दुनिया क्या करूं ll

दौलतों की थी कमी, जो गर्दिशों का साथ था l
प्यार से की परवरिश, जीवन लुटाया क्या करूं ll

अब “सलिल” मुमकिन नहीं, यह सफर आगे बढ़े l
भोर की पहली किरण, सपना बिखरता क्या करूं ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

398 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कब तक
कब तक
आर एस आघात
सांस
सांस
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
🌳वृक्ष की संवेदना🌳
🌳वृक्ष की संवेदना🌳
Dr. Vaishali Verma
चूल्हे की रोटी
चूल्हे की रोटी
प्रीतम श्रावस्तवी
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
पूर्वार्थ
इंसान जिंहें कहते
इंसान जिंहें कहते
Dr fauzia Naseem shad
पहुँचाया है चाँद पर, सफ़ल हो गया यान
पहुँचाया है चाँद पर, सफ़ल हो गया यान
Dr Archana Gupta
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
Rituraj shivem verma
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
Shweta Soni
*गाओ हर्ष विभोर हो, आया फागुन माह (कुंडलिया)
*गाओ हर्ष विभोर हो, आया फागुन माह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
ruby kumari
सब पर सब भारी ✍️
सब पर सब भारी ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"सबूत"
Dr. Kishan tandon kranti
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
Manju sagar
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
*चैतन्य एक आंतरिक ऊर्जा*
*चैतन्य एक आंतरिक ऊर्जा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
The_dk_poetry
जला दो दीपक कर दो रौशनी
जला दो दीपक कर दो रौशनी
Sandeep Kumar
जिंदगी का हिसाब
जिंदगी का हिसाब
Surinder blackpen
■ कडवी बात, हुनर के साथ।
■ कडवी बात, हुनर के साथ।
*Author प्रणय प्रभात*
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
अर्थी पे मेरे तिरंगा कफ़न हो
Er.Navaneet R Shandily
जीवन है बस आँखों की पूँजी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
Suryakant Dwivedi
3255.*पूर्णिका*
3255.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा बिषय- दिशा
दोहा बिषय- दिशा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...