Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2017 · 1 min read

II आईने को सामने रखना जरूरी है II

क्या लिखूं कैसे लिखूं लिखना जरूरी हैl
आईने को सामने रखना जरूरी है ll

राह खुद ब खुद मंजिल बन जाएगी l
एक बार तेरा प्यार में पडना जरुरी है ll

पछताएगा एक दिन समय जाएगा बीतl
बौराए हैं आम तो सजना जरुरी है ll

निश्चित ही मिल जाएगी मंजिल मगर l
जीवन का लंबा सफर चलना जरूरी है ll

मन से पुकारो वह कहां रह पाएगा l
प्रीत हो सच्ची अगर मिलना जरूरी है ll

बंद आंखों से जो देखा टूटना ही था l
आंख खोलकर देखो सपना जरूरी हैll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश l

387 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
Hard work is most important in your dream way
Hard work is most important in your dream way
Neeleshkumar Gupt
रोजाना आता नई , खबरें ले अखबार (कुंडलिया)
रोजाना आता नई , खबरें ले अखबार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
देखी देखा कवि बन गया।
देखी देखा कवि बन गया।
Satish Srijan
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
शेखर सिंह
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
कवि दीपक बवेजा
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
काली मां
काली मां
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
Rituraj shivem verma
बेटियां
बेटियां
Ram Krishan Rastogi
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उन पुरानी किताबों में
उन पुरानी किताबों में
Otteri Selvakumar
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
ruby kumari
समाप्त हो गई परीक्षा
समाप्त हो गई परीक्षा
Vansh Agarwal
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हीं पे जमी थीं, ये क़ातिल निगाहें
तुम्हीं पे जमी थीं, ये क़ातिल निगाहें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहा- दिशा
दोहा- दिशा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
" कुछ काम करो "
DrLakshman Jha Parimal
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
धरती के भगवान
धरती के भगवान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
औरत
औरत
नूरफातिमा खातून नूरी
3282.*पूर्णिका*
3282.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब भी आया,बे- मौसम आया
जब भी आया,बे- मौसम आया
मनोज कुमार
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
Loading...