Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 2 min read

I.N.D.I.A

International =*I*
Nepotism . =*N*
Dynastic. =*D*
Immoral. =*I*
Association. =*A*

77 वर्ष की आजाद भारत का इतिहास घोटालों, देश द्रोह, हिंसा, नक्सलवाद, आतंकवाद, भाषावाद, क्षेत्रवाद, जातिवाद की राजनीति से भरा पड़ा है, इसके केंद्र में नए राजाओं का निर्माण करना ही था। इसी क्रम में इंदिरा, मुलायम, लालू, करुणानिधि, जयललिता, पटनायक, गोगोई, ममता, राजशेखर रेड्डी, प्रकाश सिंह बादल, अब्दुल्ला, सईद जैसे नए राजाओं का निर्माण हुआ और इनके निर्माण में ही भारतीय संघ की सोच को किचन गार्डन में और लोग को मजदूरी पर लगा दिया। अतः इन्होंने अपनी मर्जी से आजादी का उपयोग विषय बदल बदल के किया, और पूरे राष्ट्र को अदृश्य गुलामी में धकेल दिया। हां संगठन और विचार के रूप में उभरते हुए कम्युनिस्ट भी इनके सामने पानी भरने लगे। अब इनका एक छत्र बोलबाला रहा करीब पचास वर्षों तक। इसी बीच संघीय विचार के साथ एक नई रोशनी दिखती है और लोग धीरे धीरे उसे प्रकाशवान बना देते है, इनका जनता को जगाने और नए राजाओं के बारे में बताने का कार्य काम आई और लोगों की भावना, जरूरत को समझने वाली पहली सरकार चुनी ली गई। सरकार जनता के सरोकार पर काम करना शुरू किया और नए राजाओं का किला दरकना शुरू हो गया। अब जनता को लोकतंत्र का स्वाद आने लगा और कई छत्रपों को हासिए पर डाल दिया। अब छत्रपों के अंदर असुरक्षा की भावना बढ़ने लगी और मृत्यु का भय सताने लगा। क्योंकि संघवाद सर्वोपरि और जन सेवा, सरकारों का कर्म होने लगा था। इसी क्रम में एक दूसरे के विरुद्ध भीसड़ युद्ध कर चुके छत्रप, एक दूसरे को देखकर मुस्कराने लगे और आंखों के इशारे से एक दूसरे को नजदीक आने का न्योता देने लगे। इसी का फायदा उठाते हुए, अपने बलपर कभी छत्रप न बन पानेवाला बहरूपिया, एक नाई राजा के रूप में सभी छत्रपों को एक मंच पर लाने में कामयाब होता है, आखिर एक वर्णशंकर संगठन का निर्माण हुआ। चुकी पैदा होने के सवा महीने बाद नामकरण होना था, तो इसपर इन छत्रपों ने INDIA शब्द बड़ी ही धूर्त विचार से उपयोग किया और नए संगठन का नाम INDIA रख दिया। यह इंडिया भारत बिल्कुल नहीं है, एक बार पुनः हजारों झूठ, सत्य के पीछे छुपना चाहते हैं। परंतु यह लोकतांत्रिक लड़ाई अब जनता के सरोकार और छत्रपों के परिवार के बीच होगी, और जनता राक्षस नहीं होती।

मैने I.N.D.I.A को उपरोक्त के रूप में देखा किया है। आपकी सहमति और असहमति दोनों का दिल से स्वागत है। परंतु राष्ट्र और लोक की अवधारणा पर विचार जरूर करें।

We the people

Language: Hindi
1 Like · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
दान की महिमा
दान की महिमा
Dr. Mulla Adam Ali
अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस
अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
देख सिसकता भोला बचपन...
देख सिसकता भोला बचपन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
आप दिलकश जो है
आप दिलकश जो है
gurudeenverma198
सपनों को अपनी सांसों में रखो
सपनों को अपनी सांसों में रखो
Ms.Ankit Halke jha
आईना
आईना
Dr Parveen Thakur
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तब घर याद आता है
तब घर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
प्रश्रयस्थल
प्रश्रयस्थल
Bodhisatva kastooriya
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
हम
हम
Shriyansh Gupta
बिंदी
बिंदी
Satish Srijan
"*पिता*"
Radhakishan R. Mundhra
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
जनरेशन गैप / पीढ़ी अंतराल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
कौन किसके बिन अधूरा है
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
2832. *पूर्णिका*
2832. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*व्याख्यान : मोदी जी के 20 वर्ष*
*व्याख्यान : मोदी जी के 20 वर्ष*
Ravi Prakash
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
छुट्टी बनी कठिन
छुट्टी बनी कठिन
Sandeep Pande
जीवन की गाड़ी
जीवन की गाड़ी
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
Loading...