Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

Hallucination Of This Night

Whenever I speak to this deeply colored night sky,
The stillness embraces me without a judgmental eye.
I often find myself trapped in a dark room with my hands tied,
The inner me loses track of time, only the outer shell stands with pride.
I lose every sense of emotion, my heart becomes cold like ice,
A safe escape from the pain that chains me, it’s the minimum price.
I love this sleep but have always been kissed by only your voice,
The whispered ‘I love you’ echoed there, leaving me without a choice.
You don’t just embrace me but also my lost feelings that I’ve long denied,
Helping me put the shattered pieces together, wiping off the tears I’ve cried.
Even knowing I can’t touch or be held by you,
The vast darkness takes me there, where the view can be true.
The moon recited the promises once made and helplessness with its light,
The morning is approaching and it will break the hallucination of this night.

1 Like · 51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
राज वीर शर्मा
अपना भी एक घर होता,
अपना भी एक घर होता,
Shweta Soni
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम 💌💌💕♥️
प्रेम 💌💌💕♥️
डॉ० रोहित कौशिक
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
लौट चलें🙏🙏
लौट चलें🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
देवतुल्य है भाई मेरा
देवतुल्य है भाई मेरा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*प्रणय प्रभात*
मैं रचनाकार नहीं हूं
मैं रचनाकार नहीं हूं
Manjhii Masti
रिश्ते फीके हो गए
रिश्ते फीके हो गए
पूर्वार्थ
गर्भपात
गर्भपात
Bodhisatva kastooriya
नेता
नेता
Raju Gajbhiye
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
आओ मिलकर नया साल मनाये*
आओ मिलकर नया साल मनाये*
Naushaba Suriya
ख़ुदी के लिए
ख़ुदी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
कहते  हैं  रहती  नहीं, उम्र  ढले  पहचान ।
कहते हैं रहती नहीं, उम्र ढले पहचान ।
sushil sarna
इंतहा
इंतहा
Kanchan Khanna
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
*सावन में अब की बार
*सावन में अब की बार
Poonam Matia
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
भय
भय
Shyam Sundar Subramanian
2405.पूर्णिका
2405.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*गधा (बाल कविता)*
*गधा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
चिन्ता
चिन्ता
Dr. Kishan tandon kranti
* चान्दनी में मन *
* चान्दनी में मन *
surenderpal vaidya
Loading...