Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

Feel of love

Feel of love

Today love is very fast,
Early marriage and break-up fast।

Love is not a game,
This is important and main।

We are not spend our life without love,
But we are not understand our love,
And fight our beloved।

Soul feel of true love and lost it
Without love Life is not fit

1 Like · 214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
पूर्वार्थ
खुद की तलाश में मन
खुद की तलाश में मन
Surinder blackpen
"आदत"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-363💐
💐प्रेम कौतुक-363💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ आखिरकार ■
■ आखिरकार ■
*Author प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वो पास आने लगी थी
वो पास आने लगी थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
** अरमान से पहले **
** अरमान से पहले **
surenderpal vaidya
बदनाम होने के लिए
बदनाम होने के लिए
Shivkumar Bilagrami
परिवार
परिवार
Neeraj Agarwal
मुस्कुरा दो ज़रा
मुस्कुरा दो ज़रा
Dhriti Mishra
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जरूरत के हिसाब से ही
जरूरत के हिसाब से ही
Dr Manju Saini
2677.*पूर्णिका*
2677.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ आदतें बेमिसाल हैं तुम्हारी,
कुछ आदतें बेमिसाल हैं तुम्हारी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
आरजू
आरजू
Kanchan Khanna
माँ की दुआ
माँ की दुआ
Anil chobisa
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
कवि दीपक बवेजा
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
'अशांत' शेखर
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
घूंटती नारी काल पर भारी ?
घूंटती नारी काल पर भारी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फितरत
फितरत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
दिखावे के दान का
दिखावे के दान का
Dr fauzia Naseem shad
बुद्ध धम्म में चलें
बुद्ध धम्म में चलें
Buddha Prakash
*नशा सरकार का मेरे, तुम्हें आए तो बतलाना (मुक्तक)*
*नशा सरकार का मेरे, तुम्हें आए तो बतलाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
किसी दर्दमंद के घाव पर
किसी दर्दमंद के घाव पर
Satish Srijan
चश्मा
चश्मा
लक्ष्मी सिंह
Loading...