Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2023 · 1 min read

Ek galti har roj kar rhe hai hum,

Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Jo padhega nhi , uspe hi gajal likh rahe hai hum.
Uski yado ko saja kar guldaste bna liye,
Jo hum par marega nhi,
Usse hi mohabbat kar rahe h hum

719 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
Leena Anand
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अच्छा लगने लगा है !!
अच्छा लगने लगा है !!
गुप्तरत्न
💐 Prodigy Love-13💐
💐 Prodigy Love-13💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
"रंग भर जाऊँ"
Dr. Kishan tandon kranti
बेजुबान तस्वीर
बेजुबान तस्वीर
Neelam Sharma
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
अधूरी ख्वाहिशें
अधूरी ख्वाहिशें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आजकल के परिवारिक माहौल
आजकल के परिवारिक माहौल
पूर्वार्थ
2805. *पूर्णिका*
2805. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
DrLakshman Jha Parimal
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
Gouri tiwari
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक  अबोध बालक 😂😂😂
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक अबोध बालक 😂😂😂
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मेरे आदर्श मेरे पिता
मेरे आदर्श मेरे पिता
Dr. Man Mohan Krishna
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
Shweta Soni
*हिंदी गजल/ गीतिका : एक अध्ययन*
*हिंदी गजल/ गीतिका : एक अध्ययन*
Ravi Prakash
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
VINOD CHAUHAN
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हृदय के राम
हृदय के राम
Er. Sanjay Shrivastava
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
दोहा- सरस्वती
दोहा- सरस्वती
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आंधियां अपने उफान पर है
आंधियां अपने उफान पर है
कवि दीपक बवेजा
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
Rj Anand Prajapati
Loading...