Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 1 min read

Dr Arun Kumar shastri

Dr Arun Kumar shastri
इस दुनियां में progress and improve करने वालों के लिए मात्र दो रास्ते खुले हुए हैं

1 खुश होना है तो तारीफ़ सुनिए
2 बेहतर तरीके से तरक्की करनी है तो निन्दा सुनिए।

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
Paras Nath Jha
23/108.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/108.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रकाश पर्व
प्रकाश पर्व
Shashi kala vyas
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
छंद -रामभद्र छंद
छंद -रामभद्र छंद
Sushila joshi
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
shabina. Naaz
बुला रही है सीता तुम्हारी, तुमको मेरे रामजी
बुला रही है सीता तुम्हारी, तुमको मेरे रामजी
gurudeenverma198
कोई तंकीद
कोई तंकीद
Dr fauzia Naseem shad
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
आज देव दीपावली...
आज देव दीपावली...
डॉ.सीमा अग्रवाल
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
डॉ० रोहित कौशिक
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
Anand Kumar
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
आने घर से हार गया
आने घर से हार गया
Suryakant Dwivedi
इंडिया दिल में बैठ चुका है दूर नहीं कर पाओगे।
इंडिया दिल में बैठ चुका है दूर नहीं कर पाओगे।
सत्य कुमार प्रेमी
_देशभक्ति का पैमाना_
_देशभक्ति का पैमाना_
Dr MusafiR BaithA
"अभिलाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
मैथिली
मैथिली
Acharya Rama Nand Mandal
टूटने का मर्म
टूटने का मर्म
Surinder blackpen
जां से गए।
जां से गए।
Taj Mohammad
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
विकास शुक्ल
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
कृष्ण जन्म
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
लिखने के आयाम बहुत हैं
लिखने के आयाम बहुत हैं
Shweta Soni
बांध रखा हूं खुद को,
बांध रखा हूं खुद को,
Shubham Pandey (S P)
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
Loading...