Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

Dr Arun Kumar Shastri

Dr Arun Kumar Shastri
Today’s Thought
➖➖➖➖➖➖➖✔
संसार में जो कुछ भी हो रहा है वह सब ईश्वरीय विधान है, हम और आप तो केवल निमित्त मात्र हैं, इसीलिये कभी भी ये भ्रम न पालें कि “मैं” न होता तो क्या होता!!
यह संसार साइकिल का चक्र है कभी ऊपर तो कभी नीचे। कुछ लोगों को वहम है कि हम सब से उपर हैं। सबसे उपर केवल अदृश्य अलौकिक परमात्मा व उसकी शक्ति जिसे हम ईश्वर कहते हैं वही है हम नहीं। कृपया कभी भी वहम ना पाले।
➖➖➖➖➖➖➖✔

220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
Sahil Ahmad
*वकीलों की वकीलगिरी*
*वकीलों की वकीलगिरी*
Dushyant Kumar
कवि का दिल बंजारा है
कवि का दिल बंजारा है
नूरफातिमा खातून नूरी
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
लक्ष्य
लक्ष्य
Sanjay ' शून्य'
"ओस की बूंद"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
23/187.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/187.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"वो यादगारनामे"
Rajul Kushwaha
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
प्रेम अटूट है
प्रेम अटूट है
Dr. Kishan tandon kranti
* विदा हुआ है फागुन *
* विदा हुआ है फागुन *
surenderpal vaidya
😊 सियासी शेखचिल्ली😊
😊 सियासी शेखचिल्ली😊
*Author प्रणय प्रभात*
एकतरफा प्यार
एकतरफा प्यार
Shekhar Chandra Mitra
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
Pratibha Pandey
निंदा
निंदा
Dr fauzia Naseem shad
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूर्वार्थ
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
అతి బలవంత హనుమంత
అతి బలవంత హనుమంత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
मंथन
मंथन
Shyam Sundar Subramanian
वफ़ा का इनाम तेरे प्यार की तोहफ़े में है,
वफ़ा का इनाम तेरे प्यार की तोहफ़े में है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भोले भाले शिव जी
भोले भाले शिव जी
Harminder Kaur
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
बुंदेली_मुकरियाँ
बुंदेली_मुकरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
O God, I'm Your Son
O God, I'm Your Son
VINOD CHAUHAN
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
ख्वाबों के रेल में
ख्वाबों के रेल में
Ritu Verma
Loading...